कोरोना के खिलाफ जंग में शहीद हुए मित्र पुलिस के जवानों के लिए 2 मिनट का मौन रख दी श्रद्धांजलि।

कोरोना महामारी के दौरान प्रदेश की मित्र पुलिस ने सेवा करते-करते अपने कई जवानों को खो दिया। कोरोना महामारी की पहली और दूसरी लहर ने उत्तराखण्ड पुलिस के कई अधिकारियों और कर्मचारियों को काल का ग्रास बना लिया। लोगों की सेवा करने के दौरान मित्र पुलिस के अधिकारी और कर्मचारियों ने अपनी जान की परवाह न करते हुए कोरोना के खिलाफ जंग में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है। कोरोनाकाल के दौरान शहीद हुए पुलिस के अधिकारियों और कर्मचारियों की आत्मा की शांति के लिए 2 मिनट का मौन रख उन्हें श्रद्धांजलि दी गयी।

पुलिस मुख्यालय उत्तराखण्ड, देहरादून में कोरोना की पहली और दूसरी लहर में शहीद हुए उत्तराखण्ड पुलिस के अधिकारियों एवं कर्मचारियों की आत्मा की शांति के लिए दो मिनट का मौन धारण कर उन्हें श्रद्धांजलि दी गयी। साथ ही उनके परिजनों के प्रति शोक संवेदना प्रकट करते हुए उत्तराखण्ड पुलिस में उनके द्वारा दिये गये अभूतपूर्व योगदान को याद किया।

डीजीपी अशोक कुमार ने कहा कि कोरोना के दौरान उत्तराखण्ड पुलिस के जवानों ने मिशन हौसला के तहत जरूरतमंदों की मदद कर देश के अन्य पुलिस बलों के लिए एक उदाहरण पेश किया है। पहली लहर की तुलना में दूसरी लहर में हमारे अधिक जवान संक्रमित हुए, परंतु टीकाकरण के कारण सभी काफी हद तक सुरक्षित रहे। पहली लहर (8) और दूसरी लहर (5) में अब तक हमारे कुल 13 जवानों ने कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई में अपना बलिदान दिया। इस कठिन समय में उन सभी की अनुकरणीय सेवाएं हमेशा याद रखी जाएंगी। उत्तराखण्ड पुलिस उनके व उनके स्वजनों के प्रति गहरी संवेदना प्रकट करती है। उन्होंने सभी पुलिसकर्मियों से जल्द से जल्द अपने निकट सम्बन्धियों का टीकाकरण करवाने एवं कोरोना की सम्भावित तीसरी लहर के लिए तैयार रहने को कहा।

खबर को शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

क्या आपने यह ख़बर पढ़ी