जानिए कितनी है देश के 10 एम्स की कुल बेड क्षमता? सूचना अधिकार के अन्तर्गत एम्स द्वारा उपलब्ध करायी गयी सूचना से हुआ खुलासा। #AIIMS, #RTI

एम्स ऋषिकेश, बिलासपुर, भोपाल, रायपुर ने नहीं उपलब्ध करायी सूचना

देश में स्वास्थ्य सुविधाओं का अनुमान देश के सबसे उच्च मेडिकल संस्थान माने जाने वाले देश के एम्स की बेड क्षमता से लगाया जा सकता है। देश के 10 एम्स की कुल क्षमता 4214 हैै, इसमें 382 आई.सी.यू. तथा 309 वेन्टिलेटर बेड शामिल हैै। उत्तराखंड के एम्स ऋषिकेश, हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर तथा म0प्र0 के भोपाल व छत्तीसगढ़ के रायपुर ने सूचना उपलब्ध नहीं करायी है जबकि उ0प्र0 केे रायबरेली एम्स में हास्पिटल अभी निर्माणधीन होने की सूचना दी गयी हैै।

काशीपुर निवासी सूचना अधिकार कार्यकर्ता नदीम उद्दीन (एडवोकेट) ने देश के 15 एम्स से उनके यहां कुल बेड, आई.सी.यू. बेड तथा बेन्टिलेटर बेड की सूचना मांगी थी। इसके उत्तर में देश केे 10 एम्स के लोेक सूचना अधिकारियों ने सूचना उपलब्ध करायी हैै तथा एम्स ऋषिकेश, बिलासपुर, भोपाल ने प्रथम अपील के बाद भी कोई सूचना नहीं उपलब्ध करायी हैै। जबकि रायपुर ने बेड सम्बन्धी सूचना नहीं उपलब्ध करायी है तथा एम्स रायबरेेली ने हास्टिल निर्माणधीन होने की सूचना उपलब्ध करायी है। यह सूचनायेें अक्टूबर 2020 से फरवरी 2021 तक के पत्रांे से उपलब्ध करायी गयी हैै।

आरटीआई एक्टिविस्ट नदीम को उपलब्ध करायी गयी सूचना के अनुसार देश के 10 एम्स द्वारा उपलब्ध करायी गयी सूचना से स्पष्ट हैै कि इनकी बेड क्षमता केेवल 4214 बेड ही हैै जिसमें एम्स दिल्ली में 1162, भुवनेश्वर (उड़ीसा) में 922, जोधपुर (राजस्थान) में 960, पटना (बिहार) में 960, मंगलागिरी (आन्ध्र प्रदेश) में 50, नागपुर (महाराष्ट्र) में 80, भटिंडा (पंजाब) में 20, तथा बीबीनगर (तेेलंगाना) में कुल 50 बेड शामिल हैं।
आई.सी.यू. बेडों की सूचना उपलब्ध कराने वाले देश के 10 एम्स में कुल आई.सी.यू. बेडांेे की संख्या 382 हैै इसमें एम्स नई दिल्ली के मेन हास्पिटल में 92, भुवनेश्वर में 63, जोधपुर में 130, पटना में 82, मंगलागिरी में 10 तथा नागपुर में 5 आई.सी.यू बेड शामिल हैै।

आरटीआई एक्टिविस्ट नदीम को उपलब्ध सूचना के अनुसार कुल 309 बेन्टिलेटर बेडों में 74 भुवनेेश्वर, 118 जोधपुर, 102 पटना, 10 मंगलागिरी तथा 5 एम्स नागपुर में दर्शाये गयेे है।

आरटीआई एक्टिविस्ट नदीम को एम्स नई दिल्ली के लोक सूचना अधिकारी द्वारा उपलब्ध सूचना के अनुसार मेन हास्पिटल में कुल 1162 बेड हैैं तथा 92 आई.सी.यू. बेड है।

एम्स भुवनेश्वर (उड़ीसा) के द्वारा उपलब्ध करायी गयी सूचना के अनुसार कुल बेड संख्या 922 हैै। जिसमें आपदा बेड, डे केयर बेड व आपातकालीन बेड शामिल है। 63 आई.सी.यू बेड तथा 74 वेेन्टिलेटर बेड हैं।

एम्स जोधपुर (राजस्थान) द्वारा उपलब्ध करायी सूचना के अनुसार कुुल बेड 960, आई.सी.यू. बेड 130 तथा बेन्टिलेटर बेड 118 हैै।
एम्स पटना बिहार के लोेेक सूचना अधिकारी द्वारा अपनेे पत्रांक 548 दिनांक 07-12-2020 द्वारा उपलब्ध करायी गयी सूचना के अनुसार कुल 960 बेड है लेकिन कोविड हास्टिल घोषित किये जानेे के कारण 500 बेड कोविड मरीजों के लियेे एक्टिव है। यहां 82 आई.सी.यू तथा 102 वेन्टिलेटर बेड उपलब्ध है।

एम्स रायपुर (छत्तीसगढ़) द्वारा बेडों से सम्बन्धित कोई सूूचना उपलब्ध ही नहीं करायी गयी हैै, एम्स रायबरेली (उ0प्र0) ने बेडोें की सूूचना यह लिखित करते हुये नहीं उपलब्ध करायी हैै कि हास्पिटल निर्माणधीन हैै।

एम्स मंगलागिरी (आंध्र प्रदेश) द्वारा श्री नदीम को उपलब्ध सूचना केे अनुसार कुल 50 बेड है, 10 आई.सी.यू. तथा 10 बेन्टिलेेटर बेड हैैं।
एम्स नागपुर महाराष्ट्र द्वारा उपलब्ध सूचना के अनुसार कुल 80 बेड तथा 10 आपातकालीन बार्ड बेड हैं, आई.सी.यू. बेडों की संख्या 5 तथा वेन्टिलेटर बेडों की संख्या 5 है।

एम्स गोेरखपुर (उ0प्र0) द्वारा पत्रांक 532 दिनांक 16-10-2020 से उपलब्ध सूचना के अनुसार उनके यहां कोई बेड, वेन्टिलेटर व आई.सी.यू. बेड की सुुविधा उपलब्ध नहीं है।

एम्स भटिडंा (पंजाब) द्वारा पत्रांक 53 दिनांक 13-10-2020 से उपलब्ध करायी गयी सूचना के अनुसार 25/08/2020 सेे लेबिल 2 कोविड 20 बेड प्रारंभ कियेे गये है, कोई आई.सी.यू. या बेन्टिलेटर बेड नहीं हैै।

एम्स बीबी नगर (तेलंगाना) द्वारा पत्रांक 350 दिनांक 10 फरवरी 21 द्वारा उपलब्ध करायी गयी सूचना के अनुसार कुल 50 बेड है। कोई आई.सी.यूबेन्टिलेेटर बेड नहीं हैै।

एम्स कल्याणी (पश्चिमी बंगाल) द्वारा पत्रांक 744 दिनांक 16-10-2020 से आरटीआई एक्टिविस्ट नदीम को उपलब्ध करायी गयी सूचना के अनुसार एम्स कल्याणी में हास्पिटल सुविधा अभी उपलब्ध नहीं है।

नदीम उद्दीन

एडवोकेट एवं आरटीआई एक्टिविस्ट

नोट: उपर्युक्त सूचना आरटीआई एक्टिविस्ट द्वारा सूचना के अधिकार अन्तर्गत प्राप्त की गयी जानकारी के आधार पर है।

खबर को शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

क्या आपने यह ख़बर पढ़ी