डीएम रंजना राजगुरू पहुंची जसपुर, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र का किया निरीक्षण। कई समस्याओं को दूर करने के दिये अधिकारियों को निर्देश।

कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम एवं उपचार के लिए की जा रही व्यवस्थाओं को लेकर जिलाधिकारी रंजना राजगुरू ने सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र जसपुर का निरीक्षण करते हुये व्यवस्थाओं का जायजा लिया। उन्होने कोविड केयर सेन्टर, सैम्पलिंग केन्द्र, वैक्सीनेशन केन्द्र, प्रसूति कक्ष, लेबर रूम, जन-औषधि केन्द्र आदि का गहनता से निरीक्षण किया।

जिलाधिकारी ने सम्बन्धित सीएमएस को निर्देश दिये कि चिकित्सालय में कोविड-19 संक्रमण से बचाव से सम्बन्धित पोस्टर, बैनर लगाये ताकि लोगों को कोविड से बचाव आदि के बारे में जानकारी मिल सकें। जिलाधिकारी ने सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि अस्पताल में आने वाले प्रत्येक मरीज को बेहतर से बेहतर उपचार मिलें। निरीक्षण के दौरान चिकित्सालय में महिला शौचालय ठीक न होने पर सीएमएस को कडे निर्देश दिये कि शौचालय को तत्काल दुरस्थ कराये ताकि महिलाओं को उसका लाभ मिल सकें। उन्होने चिकित्सालय परिसर की झाडियों व शौचालय को साफ-सफाई करने व इसकी देख-रेख करने हेतु सीएमओ को निर्देश दिये।

उन्होने ने सीएमओ को कहा कि यदि बजट की आवश्यकता हो तो उसकी तत्काल डिमाण्ड उलब्ध कराये ताकि बजट उपलब्ध कराया जा सकें। उन्होने दवाई वितरण केन्द्र पर सभी दवाईयों का निरीक्षण करते हुये वहा दवाई ले रहे लोगों से भी पूछा कि क्या आप को सभी दवाईया चिकित्सालय से मिल रही है या नही जिस पर दवाई लेने वालों द्वारा बताया गया कि सभी दवाईया अस्पताल से ही मिल रही है। उन्होने सम्बन्धित सीएमएस को निर्देश दिये कि इस बात का विशेष ध्यान रखे कि सभी मरीज को दवाईयां अस्पताल से उपलब्ध कराया जाये। उन्होने सीएमएस को यह भी निर्देश दिये कि जिन नये चिकित्सकों की नियुक्ति हुई है उनकी ड्यूटी निर्धारित करे ताकि वे अपने कार्या को जिम्मेदारी से कर सकें। उन्होने सम्बन्धित चिकित्सको को निर्देश दिये कि आई कार्ड, नेम प्लेट लगवाना सुनिश्चित करें ताकि आने वाले लोगों को पता हो सके कि वह किस डाक्टर से अपना ईलाज करा रहा है। उन्होने चिकित्सालय में आॅक्सीजन पाईप लाइन के सम्बन्ध में भी जानकारी ली व सीएमओ को आवश्यक कार्यवाही करने हेतु निर्देश दिये। उन्होने कहा कि आॅक्सीजन सिलेण्डर पर्याप्त मात्र में उपलब्ध है, परन्तु आॅक्सीजन पाईप लाईन बनने से और अधिक सुविधा उपलब्ध हो जायेगी।

इस दौरान जनप्रतिनिधियों ने जिलाधिकारी को अवगत कराते हुये कहा कि चिकित्सालय में बाल रोग चिकित्सक की नियुक्ति की जाये जिससे कि बच्चों के ईलाज हेतु आमजन को इधर-उधर भटकना ना पडें। जिस पर जिलाकारी ने चिकित्सक की नियुक्ति हेतु शासन स्तर पर वार्ता कर शीघ्र निस्तरण किया जायेगा। उन्होने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिये है कि अस्पताल में स्वास्थ्य से सम्बन्धित जिन उपकरणों की आवश्यकता है उसकी डिमाण्ड उपलब्ध करायें ताकि आवश्कतानुसर बजट उपलब्ध कराया जा सकें।

उन्होने स्वास्थ्य केन्द्र में डिलिवरी कराने हेतु कम महिलाओं के आने पर सम्बन्धित चिकित्सक को निर्देश दिये कि सर्विलांस के माध्यम से आशा, आगनबाडी, एएनएम पता करे कि गर्भवती महिलाये कहा प्रसव कराने कहा जा रही है तथा उन महिलाओं को जागरूक करते हेतु संस्थागत प्रसव कराने हेतु पे्ररित करे। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने कोविड-19 वैक्सीन लगा रहे लोगों से उनका स्वास्थ के बारे में जानकारी लेते हुये कहा कि टीका लगने के उपरांत 30 मिनट तक विश्राम करने के उपरांत ही आपने घरों को जाये व अपने आस-पास के लोगों को वैक्सीन लगाने हेतु पे्ररित करें। उन्होने प्रधानमंत्री जनऔषधी केन्द्र का निरीक्षण करते हुये जन औषधी केन्द्र में दवाईयों का गहनता निरीक्षण किया तथा वहा उपस्थित संचालक कडे निर्देश दिये कि केन्द्र में आवश्यकतानुसार सभी प्रकार की दवाईया उपलब्ध होनी चाहिये और आमजन को अधिक से अधिक सुविधा मिलनी चाहिये। उन्होने कहा कि यदि किसी प्रकार की शिकायत मिली तो कठोर कार्यवाही अमल में लायी जायेगी। उन्होने कहा कि निजी चिकित्सालयों व मेडिकल स्टोरो पर काला बजारी रोकने हेतु टीम गठित की गयी है जिनके द्वारा निरंतर छापेमारी की जा रही है।
इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी हिमांशु खुराना, मुख्य चिकित्साधिकारी डाॅ0 डीएस पंचपाल, उप जिलाधिकारी सुन्दर सिंह, सीएमएस डा0 हितेश कुमार शर्मा, महिला चिकित्सक डा0 नेहा चैहान, डा0 पूजा, डा0 आशू सिंघल, सहित जनप्रतिनिधि मनोज पाल, शीतल जोशी आदि उपस्थित थे।

Advertisement

खबर को शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

क्या आपने यह ख़बर पढ़ी