नवम्बर और दिसंबर का नहीं मिला अब तक वेतन, आक्रोशित ठेका मजदूरों ने किया काम बंद। आश्वासन के बाद ही मजदूर काम पर लौटे।

पंतनगर विश्वविद्यालय के एस० पी० सी०( बीज उत्पादन केन्द्र) एल ०ब्लाक एवं मुख्य एस० पी० सी० दोनों ब्लाक में कार्यरत ठेका मजदूरों ने पिछले माह नवम्बर और दिसम्बर 2021 का लम्वित वेतन भुगतान कराने को लेकर आक्रोशित ठेका मजदूरों ने काम बंद कर दिया। डायरेक्टर द्वारा माह नवम्बर का एक दिन बाद और एक सप्ताह में दिसम्बर माह का शीघ्र वेतन भुगतान किए जाने के आश्वासन के बाद ही मजदूर काम पर लौटे।

ठेका मजदूरों ने बताया कि विश्व विद्यालय में पिछले 18-20 सालों से लगातार कार्यरत हैं। हमें श्रम कानूनों द्वारा देय बोनस,बीमा, चिकित्सा जैसी मूलभूत सुविधाओं से वंचित रखा गया हैं। अप्रैल माह से ई० एस ० आई० अंशदान कटौती की जा रही है । अभी तक ई० एस ० आई ० कार्ड निर्गत नहीं किए गए है। तमाम लोग बीमारी और दुर्घटनाओं के शिकार हो रहे हैं उन्हें ई० एस० आई० से इलाज नहीं मिल पा रहा है। कुलपति जी के आदेश होने के बाद भी सरकारी काम करने के लिए खुरपी, फाफड़ा,दराती, एवं सुरक्षा उपकरण नहीं दिए जा रहे हैं। काम की असुरक्षा से घर से लाने पड़ते हैं। कभी समय से वेतन भुगतान नहीं किया जा रहा है। अभी तक पिछले माह नवम्बर और दिसम्बर 2021 दो माह का वेतन भुगतान नहीं किया गया है।जबकि नियमानुसार ठेका मजदूरों को हर महीने की 07 तारीख तक वेतन भुगतान किया जाना चाहिए। हालांकि विश्व विद्यालय प्रशासन द्वारा हर महीने के 07 तारीख एवं विलम्वित 10 तारीख तक वेतन भुगतान करने के आदेश दिए हैं। इतना ही नहीं स्वयं कुलपति जी द्वारा आदेश जारी कर ठेका मजदूरों को हर माह के प्रथम सप्ताह में वेतन भुगतान किए जाने का निर्देश दिया गया है। परंतु आज तक इन आदेशों का पालन नहीं किया गया है।

छंटनी बंद कर समय से वेतन भुगतान और पूरे माह 26 कार्यदिवसो के वेतन भुगतान किए जाने को लेकर ठेका मजदूर कल्याण समिति द्वारा शासन प्रशासन से लम्बे समय से लगातार लिखित मौखिक अनुरोध किया जा रहा है। परंतु शासन- प्रशासन द्वारा ठेका मजदूरों की उपेक्षा की जा रही है। शोषण उत्पीड़न पर रोक नहीं लगाई जा रही है। इतना ही नहीं शासन द्वारा विश्वविद्यालय के बजट कटौती कर ठेका मजदूरों के शोषण उत्पीड़न को और ज्यादा बढ़ाया जा रहा है।

समय से वेतन भुगतान नहीं करने के कारण ठेका मजदूरों के परिवारों के भरण पोषण, बच्चों की स्कूल फीस, राशन, सब्जियों को लेने में आर्थिक संकट का सामना करना पड़ रहा है। प्रशासन द्वारा अमानवीय व्यवहार किया जा रहा है। वेतन भुगतान को लेकर आए दिन ठेका मजदूरों का आक्रोश फूटता रहता है।

बहरहाल आक्रोशित ठेका मजदूरों ने कहा है कि जब तक लम्बित माह का वेतन भुगतान नहीं किया जाता तब तक वह काम पर नहीं जाएंगे एस० पी० सी० डाइरेक्टर द्वारा कल तक,एक दिन में नवंबर माह का वेतन और एक सप्ताह में दिसम्बर का शीघ्र वेतन भुगतान कराने का आश्वासन दिया तब जाकर मजदूर काम पर लौटे।

कार्यक्रम में अजय,पनेरु,तेजाउददीन, सुरेश, मुन्नी,रामायन,ललित मोहन,अंकेश, अशोक,बूटन, रामानंद,माधव,मोहन,नीतू, देवकी, जंगबहादुर,त्रिलोकी, राजेश, मनोज आदि तमाम ठेका मजदूर कल्याण समिति के सदस्य, कार्यकर्ता शामिल शामिल रहे।

खबर को शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

क्या आपने यह ख़बर पढ़ी

error: Content is protected !!