(पेयजल संकट) लीकेज की नहीं होगी समस्या, नाबार्ड के सहयोग से सेंसर युक्त निगरानी व्यवस्था होगी शुरू

राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) ने शुक्रवार को राजभवन नैनीताल में पेयजल विभाग के उच्चाधिकारियों की बैठक ली। इस बैठक में सचिव पेयजल अरविन्द सिंह ह्यांकी, एमडी पेयजल रणवीर सिंह चौहान और सीजेएम जल संस्थान नीलिमा गर्ग मौजूद रहीं। राज्यपाल ने ग्रीष्मकालीन पेयजल संकटग्रस्त क्षेत्रों में वर्तमान में की जा रही वैकल्पिक व्यवस्था और विभाग द्वारा इस संकट को कम करने के लिए भावी योजनाओं की जानकारी ली।

राज्यपाल ने कहा कि पेयजल समस्या के तात्कालिक उपायों के साथ-साथ दीर्घकालिक उपाय खोजे जाने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड व देश में जल संरक्षण एवं भूजल स्तर को बढ़ाये जाने हेतु व्यापक योजना बनाये जाने की आवश्यकता है जो देश में एक मिसाल बने। उन्होंने कहा कि विभागीय सक्सेस स्टोरी को अन्य स्थानों में भी लागू करने के प्रयास किये जाएं।

राज्यपाल ने वर्षा जल संग्रह के ठोस इंतजाम की जरूरत बताई। राज्यपाल ने टेक्नोलॉजी का प्रयोग कर पेयजल व्यवस्था की मॉनिटरिंग करने के निर्देश दिए। उन्होंने डैशबोर्ड और मोबाइल आधारित एप्लिकेशन मॉनिटरिंग सिस्टम विकसित किए जाने के भी निर्देश दिए। राजपाल जल संरक्षण क्षेत्र में अच्छा कार्य कर रही संस्थाओं को प्रोत्साहित किए जाने और उनके सहयोग पर भी बल दिया।

बैठक में सचिव पेयजल द्वारा प्रदेश में वर्तमान में नगरीय क्षेत्रांतर्गत पेयजल संकटग्रस्त मोहल्लों की स्थिति, वर्तमान में ग्रामीण क्षेत्रांतर्गत पेयजल संकटग्रस्त बसावटों की स्थिति, प्रभावित ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र, विगत तीन वर्षों के दौरान नगरीय क्षेत्रांतर्गत संकटग्रस्त मोहल्लों का विवरण एवं विगत तीन वर्षों के दौरान ग्रामीण क्षेत्रांतर्गत संकटग्रस्त बसावटों का विवरण की जानकारी दी गई।

उन्होंने बताया कि पेयजल हानि को रोकने लिए शहरी तथा अर्ध शहरी क्षेत्रों में नवनिर्मित योजनाओं में मीटर व्यवस्था को अनिवार्य किया गया है तथा पुरानी योजनाओं में भी मीटर संयोजन प्रोत्साहित किया जा रहा है। वहीं लाइन में लीकेज की समस्या से बचने के लिए विभाग द्वारा नाबार्ड के सहयोग से सेंसर युक्त निगरानी व्यवस्था शुरू किए जाने का प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है। वर्तमान में पेयजल से संबंधित शिकायतों का समाधान टोल फ्री नम्बर से किया जा रहा है।

सचिव पेयजल श्री अरविन्द सिंह ह्यांकी ने जानकारी दी की राज्य द्वारा विभिन्न जल संरक्षण गतिविधियों के लिए स्प्रिंग और रिवर रिजूवनेशन एजेंसी (सारा) का गठन किया गया है, जिसमें विभिन्न विभागों यथा वन, जलागम, ग्राम्य विकास, पेयजल, सिंचाई, लघु सिंचाई, कृषि, पंचायती राज आदि द्वारा जल संरक्षण के कार्य प्रस्तावित है। चिन्हित जल स्रोतों के संरक्षण एवं स्रोत संवर्धन हेतु कार्य-योजना तैयार की गई है, जिसमें चाल-खाल, चैक डेम, कंटूर ट्रेंच, परकोलेशन पिट, वृक्षारोपण के कार्य प्रस्तावित हैं। पेयजल विभाग द्वारा जल स्रोतों के संरक्षण एवं स्रोत संवर्धन हेतु आगामी कार्य-योजना की भी जानकारी दी गई।

खबर को शेयर करें ...

Related Posts

(उत्तराखंड विधानसभा उपचुनाव) बद्रीनाथ व मंगलौर से जीती कांग्रेस, भाजपा को मिली करारी हार

बद्रीनाथ विधानसभा उप चुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार श्री लखपत सिंह…

खबर को शेयर करें ...

एससी एवं एसटी को विभिन्न योजनाओं का लाभ एक ही प्लेटफार्म पर मिले, इसके लिए बनेगी एकीकृत व्यवस्था – सीएम धामी

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी की अध्यक्षता में आज मुख्यमंत्री…

खबर को शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

क्या ये आपने पढ़ा?

(उत्तराखंड विधानसभा उपचुनाव) बद्रीनाथ व मंगलौर से जीती कांग्रेस, भाजपा को मिली करारी हार

(उत्तराखंड विधानसभा उपचुनाव) बद्रीनाथ व मंगलौर से जीती कांग्रेस, भाजपा को मिली करारी हार

एससी एवं एसटी को विभिन्न योजनाओं का लाभ एक ही प्लेटफार्म पर मिले, इसके लिए बनेगी एकीकृत व्यवस्था – सीएम धामी

एससी एवं एसटी को विभिन्न योजनाओं का लाभ एक ही प्लेटफार्म पर मिले, इसके लिए बनेगी एकीकृत व्यवस्था – सीएम धामी

एसडीजी रिपोर्ट की रैंकिंग में उत्तराखंड ने सर्वाधिक अंक लेकर हासिल किया पहला स्थान

एसडीजी रिपोर्ट की रैंकिंग में उत्तराखंड ने सर्वाधिक अंक लेकर हासिल किया पहला स्थान

(रुद्रपुर) यहां अतिक्रमण हटाने की ऊधम सिंह नगर पुलिस प्रशासन की तैयारी पूरी। 1200 से भी अधिक पुलिस एवं पीएसी बल तथा फायर ब्रिगेड रहेगी मौजूद।

(रुद्रपुर) यहां अतिक्रमण हटाने की ऊधम सिंह नगर पुलिस प्रशासन की तैयारी पूरी। 1200 से भी अधिक पुलिस एवं पीएसी बल तथा फायर ब्रिगेड रहेगी मौजूद।

(नगला) बाइक में भरवाया 5 ली. पेट्रोल, कुछ दूर चलने के बाद बंद हुई बाइक, पता चला आधा पानी है, मुख्यमंत्री पोर्टल पर की गयी शिकायत

(नगला) बाइक में भरवाया 5 ली. पेट्रोल, कुछ दूर चलने के बाद बंद हुई बाइक, पता चला आधा पानी है, मुख्यमंत्री पोर्टल पर की गयी शिकायत

(राष्ट्रीय मत्स्य पालन दिवस) पंतनगर में मत्स्य पालकों को कार्प प्रजातियों के लगभग एक लाख मत्स्य बीज का किया गया वितरण

(राष्ट्रीय मत्स्य पालन दिवस) पंतनगर में मत्स्य पालकों को  कार्प प्रजातियों के लगभग एक लाख मत्स्य बीज का किया गया वितरण