प्रगतिशील महिला एकता केन्द्र एवं भोजन माता संगठन ने कमला देवी को दी भावभीनी श्रद्धांजलि, मात्र 2000 रूपये मासिक वेतन जैसे अन्य शोषण के खिलाफ किया था कठिन संघर्ष

भोजन माता संगठन एवं प्रगतिशील महिला एकता केंद्र द्वारा संयुक्त रूप से रामलीला मैदान पंतनगर में दो मिनट का मौन रखकर कमला देवी को श्रद्धांजलि अर्पित की। स्व. कमला देवी वर्ष 2008 से राजकीय कन्या इंटर कालेज पंतनगर में भोजन माता के पद पर कार्यरत थीं और चितरंजन भवन छात्रावास कालोनी में अपने परिवार के साथ रहती थी। वह भोजन माता संगठन और प्रगतिशील महिला एकता केंद्र की सक्रिय सदस्य थी। वह अपने पीछे परिवार में दो बेटियां और एक पुत्र को छोड़ गयी है। उनके पति पंतनगर विश्वविद्यालय में कार्यरत हैं।

सभा में वक्ताओं ने कहा कि भोजन माताएं पिछले 18-20 वर्षों से लगातार कार्यरत हैं। उन्हें मात्र 2000 रुपए का मासिक मानदेय दिया जा रहा है। इन्हें न कोई चिकित्सा सुविधा दी जा रही है और न ही कोई बीमा, नौकरी की सुरक्षा है। भोजन माताओं को सरकार द्वारा घोषित अकुशल मजदूर तक की मजदूरी नहीं दी जा रही है। साथी कमला देवी भोजन माताओं को 15000 रूपए मासिक मानदेय दिए जाने के लिए संघर्षरत थी।

वह संघर्षों के बल पर अंग्रेजी सरकार से हासिल किए 44 श्रम कानूनों को मोदी सरकार द्वारा खत्म कर 4 मजदूर विरोधी श्रम संहिताओं में समेटने के खिलाफ रहीं। विरोध प्रदर्शन में लगातार शामिल होकर मेहनतकश मजदूर किसानों की आवाज बुलंद करती रही। उनके जाने पर वक्ताओं ने इसे एक बड़ी क्षति बताया।

सभा में विंदू गुप्ता, लक्ष्मी पंत, मीना, लक्ष्मी,तलासी, पूजा, राजकली, सोना, बसंती,बंदना, के साथ इंकलाबी मजदूर केन्द्र एवं ठेका मजदूर कल्याण समिति के अभिलाख सिंह, मनोज रमेश कुमार,श्रवण कुमार बिकास, सुभाष प्रसाद, आदि लोग शामिल रहे। सभा का संचालन पुष्पा ने किया।

खबर को शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

क्या आपने यह ख़बर पढ़ी

error: Content is protected !!