बच्चों की खांसी से हर कोई हो जाता है परेशान, जानिए कारण और घरेलु समाधान

बच्चों में खांसी एक सामान्य लक्षण है, और यह विभिन्न स्थितियों के कारण हो सकता है। कई मामलों में, खांसी एक प्राकृतिक तरीका है, जो स्वासनली से श्लेष्म (mucus), धूल और अन्य परेशान करने वाले कारकों को साफ़ करने में मदद करता है।

हालांकि, लगातार या गंभीर खांसी एक अंतर्निहित स्थिति का संकेत हो सकती है, जैसे कि श्वसन संक्रमण, अस्थमा, एलर्जी या गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स रोग (जीईआरडी)।

यदि खांसी बनी रहती है या अन्य लक्षणों के साथ होती है, जैसे कि बुखार, सांस लेने में कठिनाई, या घरघराहट तो अपने बच्चे की खांसी की निगरानी करना और चिकित्सा पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है

ये भी जानिए : बीयर पीने वालों को जरूर जानने चाहिए इसके फायदे और कुछ नुकसानों के बारे में

बच्चे की खांसी के प्रबंधन के लिए कुछ युक्तियों में यह सुनिश्चित करना शामिल है कि वे अच्छी तरह से हाइड्रेटेड हैं, हवा को नम करने के लिए ह्यूमिडिफायर का उपयोग करना, और धुएं या तेज सुगंध जैसे परेशानियों के संपर्क में आने से बचना। ओवर-द-काउंटर खांसी और सर्दी की दवाओं का उपयोग बच्चों में सावधानी के साथ और केवल एक स्वास्थ्य सेवा प्रदाता (Doctor) के मार्गदर्शन में किया जाना चाहिए।

बच्चों में खांसी के कई संभावित कारण होते हैं। कुछ सबसे सामान्य कारणों में शामिल हैं:

श्वसन संक्रमण: खांसी श्वसन संक्रमण का एक सामान्य लक्षण है, जिसमें सामान्य सर्दी, फ्लू, ब्रोंकाइटिस और निमोनिया शामिल हैं।

अस्थमा: अस्थमा एक पुरानी स्थिति है जो वायुमार्ग की सूजन और संकुचन का कारण बनती है, जिससे खांसी, घरघराहट और सांस लेने में कठिनाई होती है।

ये भी पढ़िए : सिर्फ डराता ही नहीं है कॉकरोच, ये सारे नुकसान भी पहुंचाता है, ऐसे बचाइए खुद को और अपनों को

एलर्जी: पराग, धूल के कण, जानवरों की रूसी और अन्य एलर्जी से एलर्जी की प्रतिक्रिया से खांसी और अन्य श्वसन लक्षण हो सकते हैं।

गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स रोग (जीईआरडी): जीईआरडी एक ऐसी स्थिति है जिसमें पेट का एसिड वापस अन्नप्रणाली में प्रवाहित होता है, जिससे जलन और खांसी होती है।

पर्यावरणीय अड़चनें: सिगरेट के धुएं, वायु प्रदूषण और अन्य पर्यावरणीय परेशानियों के संपर्क में आने से खांसी हो सकती है।

बाहरी वस्तुएँ: छोटे बच्चे अनजाने में छोटी वस्तुओं को निगल सकते हैं, जिससे उन्हें खाँसी या घुटन हो सकती है।

पोस्टनेसल ड्रिप: अतिरिक्त बलगम नाक या साइनस से गले के पीछे नीचे टपकता है, जिससे खांसी हो सकती है।

एक स्वास्थ्य सेवा प्रदाता (Doctor) खांसी के अंतर्निहित कारण की पहचान करने और उचित उपचार की सिफारिश करने में मदद कर सकता है।

ये भी जानिये : सबसे सस्ता और सबसे अच्छा व्यायाम है रस्सी कूद, देता है तमाम फायदे

जबकि बच्चे की खांसी के लिए कोई गारंटीकृत इलाज नहीं है, ऐसे कई घरेलू उपचार हैं जो लक्षणों को कम करने और उपचार को बढ़ावा देने में मदद कर सकते हैं।

बच्चों की खांसी को कम करने में मदद के लिए यहां कुछ घरेलू उपाय दिए गए हैं:

शहद: एक चम्मच शहद बच्चे के गले को शांत करने और खांसी को कम करने में मदद कर सकता है। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि बोटुलिज़्म के जोखिम के कारण 12 महीने से कम उम्र के शिशुओं को शहद नहीं दिया जाना चाहिए।

भाप: एक गर्म, भाप से भरा वातावरण बलगम को ढीला करने और खांसी को कम करने में मदद कर सकता है। आप गर्म स्नान करके और अपने बच्चे के साथ बाथरूम में 10-15 मिनट के लिए बैठकर स्टीम रूम बना सकते हैं। वैकल्पिक रूप से, आप अपने बच्चे के कमरे में ह्यूमिडिफायर का उपयोग कर सकते हैं।

ये भी जानिए : जानिए मधुमेह (डायबिटीज) के बारे में, इसके लक्षण, नुकसान और कैसे कण्ट्रोल करें

तरल पदार्थ: बलगम को पतला करने और निर्जलीकरण को रोकने में मदद करने के लिए अपने बच्चे को बहुत सारे तरल पदार्थ पीने के लिए प्रोत्साहित करें।

Saline nasal drops : Saline nasal drops नाक के मार्गों को मॉइस्चराइज करके जमा कफ को दूर करने और खाँसी को कम करने में मदद कर सकती हैं।

आराम करें: सुनिश्चित करें कि आपके बच्चे को पर्याप्त आराम मिले ताकि उसका शरीर ठीक हो सके।

गर्म तरल पदार्थ: चिकन सूप या हर्बल चाय जैसे गर्म तरल पदार्थ गले की खराश को कम करने और खांसी को कम करने में मदद कर सकते हैं।

सिर को ऊपर उठाना: सोते समय अपने बच्चे के सिर को थोड़ा ऊपर उठाने से रात में खांसी कम करने में मदद मिल सकती है।

नीलगिरी (Eucalyptus) का तेल: ह्यूमिडिफायर या एक कटोरी गर्म पानी में नीलगिरी के तेल की कुछ बूंदें डालकर और अपने बच्चे को भाप लेने से खांसी कम करने और बलगम को ढीला करने में मदद मिल सकती है।

अदरक: अदरक में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो खांसी को कम करने में मदद कर सकते हैं। आप अदरक की कुछ स्लाइस को पानी में उबालकर और स्वाद के लिए शहद मिलाकर अदरक की चाय बना सकते हैं।

ये भी पढ़िए : क्या आप भी हैं मोटापे से परेशान? जानिए फायदे, नुकसान और इससे बचने के उपाय

लहसुन: लहसुन में जीवाणुरोधी और एंटीवायरल गुण होते हैं जो खांसी पैदा करने वाले संक्रमण से लड़ने में मदद कर सकते हैं। आप लहसुन की कुछ कलियों को पीसकर एक गिलास गर्म दूध या पानी में मिला सकते हैं।

हल्दी वाला दूध: हल्दी में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो खांसी को कम करने में मदद कर सकते हैं। आप एक गिलास गर्म दूध में एक चम्मच हल्दी मिला सकते हैं और स्वाद के लिए शहद के साथ मीठा कर सकते हैं।

अजवायन की पत्ती: अजवायन के फूल में जीवाणुरोधी गुण होते हैं जो खांसी का कारण बनने वाले संक्रमण से लड़ने में मदद कर सकते हैं। आप अजवायन के फूल की कुछ टहनी को पानी में उबालकर और स्वाद के लिए शहद मिलाकर चाय बना सकते हैं।

आवश्यक तेल: आवश्यक तेल जैसे पुदीना, चाय के पेड़ और लैवेंडर खांसी को कम करने और विश्राम को बढ़ावा देने में मदद कर सकते हैं। आप एक कटोरी गर्म पानी में कुछ बूंदें डाल सकते हैं और भाप को अंदर ले सकते हैं।

नींबू और शहद: नींबू में जीवाणुरोधी गुण होते हैं और यह बलगम को ढीला करने में मदद कर सकता है, जबकि शहद गले को शांत कर सकता है। आप गर्म पानी या चाय में नींबू का रस और शहद मिलाकर अपने बच्चे को पिला सकते हैं।

दालचीनी: दालचीनी में एंटीवायरल और जीवाणुरोधी गुण होते हैं जो खांसी पैदा करने वाले संक्रमण से लड़ने में मदद कर सकते हैं। आप दालचीनी पाउडर को शहद के साथ मिला सकते हैं और अपने बच्चे को इसे चम्मच से लेने को कह सकते हैं।

ये भी जानिए : क्या आप भी परेशान हैं सांसों कि दुर्गन्ध से, छुटकारा पाने के लिए अपनाइए ये टिप्स

सेब का सिरका: सेब के सिरके में रोगाणुरोधी गुण होते हैं और बलगम को तोड़ने में मदद कर सकते हैं। आप सेब के सिरके को शहद और गर्म पानी या चाय में मिलाकर अपने बच्चे को पिला सकते हैं।

प्याज का रस: प्याज में रोगाणुरोधी गुण होते हैं और बलगम को ढीला करने में मदद कर सकते हैं। आप प्याज को पीसकर या पीसकर उसका रस निकाल कर प्याज का रस निकाल सकते हैं। रस को शहद में मिलाकर अपने बच्चे को चम्मच से पिलाएं।

लीकोरिस रूट: लीकोरिस रूट में एंटी-इंफ्लेमेटरी और सुखदायक गुण होते हैं जो खांसी को कम करने में मदद कर सकते हैं। आप मुलेठी की जड़ को पानी में उबालकर और स्वाद के लिए शहद मिलाकर मुलेठी की जड़ की चाय बना सकते हैं।

नमक के पानी से गरारे करें: नमक के पानी से गरारे करने से गले की खराश और खांसी से राहत मिलती है। गर्म पानी में एक चम्मच नमक मिलाएं और अपने बच्चे को इससे गरारे करने को कहें।

काली मिर्च: काली मिर्च में कफ निस्सारक गुण होते हैं जो बलगम को ढीला करने और खांसी को कम करने में मदद कर सकते हैं। आप काली मिर्च पाउडर को शहद के साथ मिला सकते हैं और अपने बच्चे को चम्मच से इसे लेने को कह सकते हैं।

मेथी के बीज: मेथी के बीज में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो खांसी को कम करने में मदद कर सकते हैं। आप मेथी के दानों को रात भर पानी में भिगोकर रख सकते हैं और सुबह अपने बच्चे को पानी पिला सकते हैं।

अजवायन: अजवायन में एंटीवायरल और जीवाणुरोधी गुण होते हैं जो खांसी पैदा करने वाले संक्रमण से लड़ने में मदद कर सकते हैं। आप कैरम के बीजों को पीसकर शहद में मिला सकते हैं और अपने बच्चे को इसे चम्मच से खाने को कह सकते हैं।

बादाम: बादाम में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने और संक्रमण से लड़ने में मदद कर सकते हैं। आप बादाम को रात भर भिगो कर रख सकते हैं और उन्हें पीसकर पेस्ट बना सकते हैं। पेस्ट को शहद के साथ मिलाएं और अपने बच्चे को इसे चम्मच से लेने को कहें।

ये भी जानिए : गर्मी में पैरों (तलवों) में आने वाले पसीने से हैं परेशान, अपनाएं ये टिप्स

अनानास का रस: अनानास के रस में ब्रोमेलैन नामक एक एंजाइम होता है, जिसमें सूजनरोधी गुण होते हैं जो खांसी को कम करने में मदद कर सकते हैं। आप अपने बच्चे को अनानास का रस पिला सकती हैं या ताजा अनानास खा सकती हैं।

आंवला (भारतीय आंवला): आंवला में एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने और संक्रमण से लड़ने में मदद कर सकते हैं। आप आंवला पाउडर को शहद के साथ मिला सकते हैं और अपने बच्चे को इसे चम्मच से लेने को कह सकते हैं।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि यदि आपके बच्चे की खांसी बनी रहती है या बुखार या सांस लेने में कठिनाई जैसे अन्य लक्षणों के साथ है, तो स्वास्थ्य सेवा प्रदाता (doctor) से चिकित्सा की तलाश करना महत्वपूर्ण है।

खबर को शेयर करें ...

Related Posts

लालकुआँ-वाराणसी सिटी- लालकुआँ ग्रीष्मकालीन विशेष गाड़ी 29 अप्रैल से

रेल यात्रियों की सुविधा हेतु 05055 /05056 लालकुआँ-वाराणसी सिटी-लालकुआँ ग्रीष्मकालीन…

खबर को शेयर करें ...

(गज़ब) मियां-बीवी दोनों मिलकर देते थे चोरी की घटनाओं को अंजाम, फेरी के बहाने करते थे रेकी

लालकुआं क्षेत्र में चोरी/नकबजनी की घटनाओं में शामिल पति पत्नी…

खबर को शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

क्या ये आपने पढ़ा?

लालकुआँ-वाराणसी सिटी- लालकुआँ ग्रीष्मकालीन विशेष गाड़ी 29 अप्रैल से

लालकुआँ-वाराणसी सिटी- लालकुआँ ग्रीष्मकालीन विशेष गाड़ी 29 अप्रैल से

(गज़ब) मियां-बीवी दोनों मिलकर देते थे चोरी की घटनाओं को अंजाम, फेरी के बहाने करते थे रेकी

(गज़ब) मियां-बीवी दोनों मिलकर देते थे चोरी की घटनाओं को अंजाम, फेरी के बहाने करते थे रेकी

ईवीएम मशीनों को रखा गया स्ट्रांग रूम में, ऐसी है चाक-चौबंद सुरक्षा

ईवीएम मशीनों को रखा गया स्ट्रांग रूम में, ऐसी है चाक-चौबंद सुरक्षा

लालकुआं-हावड़ा ग्रीष्मकालीन विषेष गाड़ी के समय में हुआ बदलाव

लालकुआं-हावड़ा ग्रीष्मकालीन विषेष गाड़ी के समय में हुआ बदलाव

जैव विविधता से भरपूर उत्तराखंड में पक्षियों का एक अलग संसार बसता है- राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि)

जैव विविधता से भरपूर उत्तराखंड में पक्षियों का एक अलग संसार बसता है- राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि)

जंगल में लगने वाली आग पर काबू पाने के लिए राजस्व पुलिस के साथ महिला मंगल दल, युवक मंगल दल, स्वयं सहायता समूहों एवं आपदा मित्रों का भी रहेगा सहयोग

जंगल में लगने वाली आग पर काबू पाने के लिए राजस्व पुलिस के साथ महिला मंगल दल, युवक मंगल दल, स्वयं सहायता समूहों एवं आपदा मित्रों का भी रहेगा सहयोग