बिजनौर में खो-खो खिलाड़ी की बर्बर हत्या के विरोध में शहीद स्मारक पंतनगर पर फूंका यूपी सरकार का पुतला।

इंकलाबी मजदूर केन्द्र एवं ठेका मजदूर कल्याण समिति तथा प्रगतिशील महिला एकता केंद्र द्वारा बिजनौर में खो-खो खिलाड़ी, दलित बेटी की बर्बर हत्या के विरोध में शहीद स्मारक पंतनगर पर सभा की गई। सभा के बाद विरोध स्वरुप उत्तर प्रदेश सरकार का पुतला फूंका गया।

वक्ताओ ने कहा कि बिजनौर की 24 वर्षीय दलित परिवार की बेटी राष्ट्रीय स्तर की खो-खो खिलाड़ी थी। उसके साथ दिन-दहाड़े बलात्कार की कोशिश की गयी और नृशंस तरीके से हत्या कर दी गयी इससे यह साफ है कि दिन हो या रात , बच्ची हों या बुजुर्ग गरीब, दलित, मेहनतकश, मजदूर महिलाएं कहीं भी सुरक्षित नहीं है।

परिवार का कहना है कि उसके साथ बलात्कार हुआ है पोस्टमार्टम रिपोर्ट गलत हैं | प्लेयर के कपड़े फटे और खून से सने हुए थे| यह एक आदमी का काम नहीं है। उससे खिलाड़ी बेटी निपट सकती थी। यह योजनाबद्ध तरीके से कई अपराधियों द्वारा किया गया अपराध है। इसके वावजूद पुलिस ने एक ही अपराधी को पकड़ा है। यह जगजाहिर है कि पूर्व में उत्तर प्रदेश के उन्नाव और हाथरस, बदायूं में हुए इस तरह के जघन्य अपराधों में सरकार पीडित पक्ष को न्याय दिलवाने में असफल रही है।

देश के भीतर महिलाओं के साथ बलात्कार कर नृशंस हत्याओं का ग्राफ तेजी के साथ बड़ रहा हैं जिसका कारण अश्लील संस्कृति व पुरुष प्रधान मानसिकता है | पूंजीवाद ने महिलाओं के शरीर को एक वस्तु के रूप में स्थापित कर दिया है| जिस वजह से विकृत मानसिकता के लोग इन्हें इंसान ही नहीं समझते| सरकार कड़े से कड़े कानून बना रही हैं लेकिन अपराध कम होने की जगह और तीव्र गति से बढ़ रहे हैं|
देश में मौजूद अश्लील संस्कृति व पुरुष प्रधान मानसिकता को बनाये रखनी वाली पूंजीवादी व्यवस्था के खात्मे के साथ ही महिलाओं के साथ होने वाले अपराध खत्म होगें |

पुतला दहन और सभा मे मीना, राजकली, सुनैना, लक्ष्मी, राशिद, मनोज कुमार, रमेश कुमार,अभिलाख सिंह, पृथ्वीराज गौतम, सुरेश,छत्रपाल,विकास श्रवण कुमार, भूपेन्द्र,भरत यादव, सुभाष आदि लोग शामिल रहे।

खबर को शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

क्या आपने यह ख़बर पढ़ी

error: Content is protected !!