बीयर पीने वालों को जरूर जानने चाहिए इसके फायदे और कुछ नुकसानों के बारे में

बीयर एक मादक पेय है जो किण्वित अनाज, आमतौर पर माल्टेड जौ, हॉप्स, पानी और खमीर से बनाया जाता है। बीयर बनाने की प्रक्रिया में माल्टेड अनाज को गर्म पानी के साथ मिलाकर एक मीठा तरल बनाया जाता है जिसे वोर्ट कहा जाता है। स्वाद प्रदान करने और मिठास को संतुलित करने के लिए हॉप्स को पौधा में मिलाया जाता है, और खमीर के मिश्रण को किण्वित करने के लिए जोड़ा जाता है, जिससे शर्करा बीयर में परिवर्तित हो जाती है।

बीयर बनाने की प्रक्रिया और प्रयुक्त सामग्री के आधार पर बीयर कई प्रकार की शैलियों (Styles) और स्वादों में आती है। बीयर की कुछ सामान्य शैलियों में शामिल हैं:

एले – उच्च तापमान पर शीर्ष-किण्वन खमीर के साथ पीसा जाता है, जिसके परिणामस्वरूप फल, मजबूत स्वाद होता है।

लेगर – कम तापमान पर नीचे-किण्वन खमीर के साथ पीसा जाता है, जिसके परिणामस्वरूप एक कुरकुरा, साफ स्वाद होता है।

इसे भी जानिए : दुकान के स्नैक्स भूल जायेंगे बच्चे, घर पर बनाकर खिलाएं केले के कुरकुरे और टेस्टी चिप्स

स्टाउट – भुने हुए माल्ट से बनी एक डार्क, रिच बीयर, अक्सर थोड़े कड़वे स्वाद के साथ।

आईपीए – इंडिया पेल एले, एक हॉपी बियर जो अक्सर कड़वा और स्वादिष्ट होता है।

बीयर का आमतौर पर संयम (control) में सेवन किया जाता है, और इसकी अल्कोहल सामग्री शैली (style) और ब्रांड के आधार पर भिन्न हो सकती है। जिम्मेदारी से और संयम से पीना महत्वपूर्ण है, क्योंकि अत्यधिक बीयर के सेवन से स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

बीयर बनाने की प्रक्रिया में आमतौर पर निम्नलिखित चरण शामिल होते हैं:

माल्टिंग – इस चरण में, अनाज, आमतौर पर जौ, को पानी में भिगोया जाता है और अंकुरित होने दिया जाता है। यह प्रक्रिया अनाज में एंजाइम को सक्रिय करती है जो स्टार्च को चीनी में बदल देती है।

मैशिंग – मैशिंग नामक प्रक्रिया में माल्ट किए गए अनाज को गर्म किया जाता है और गर्म पानी के साथ मिलाया जाता है। यह वोर्ट नामक एक मीठा तरल बनाता है, जिसमें किण्वन के लिए आवश्यक शर्करा होती है।

इसे भी जानिए : तांबे की बोतल का पानी पीना क्यों होता है फायदेमंद ? साथ ही जानिए इसके नुकसान

उबालना – इसके बाद वोर्ट को हॉप्स के साथ उबाला जाता है, जो बियर को स्वाद, कड़वाहट और सुगंध प्रदान करता है। अन्य सामग्री, जैसे कि मसाले या फल, को भी इस बिंदु पर जोड़ा जा सकता है।

किण्वन – उबालने के बाद, मिश्रण को ठंडा किया जाता है और खमीर डाला जाता है। खमीर शराब और कार्बन डाइऑक्साइड का उत्पादन करते हुए, पौधा में शर्करा का सेवन करता है। बनने वाली बियर के प्रकार के आधार पर इस प्रक्रिया में कई दिनों से लेकर कुछ सप्ताह तक का समय लग सकता है।

कंडीशनिंग – एक बार किण्वन पूरा हो जाने के बाद, बीयर को कंडीशनिंग के लिए दूसरे बर्तन में स्थानांतरित कर दिया जाता है, जहाँ इसे परिपक्व होने और इसके स्वाद को विकसित करने के लिए छोड़ दिया जाता है। कंडीशनिंग समय की अवधि बियर के प्रकार पर निर्भर करती है और कुछ दिनों से लेकर कई महीनों तक हो सकती है।

पैकेजिंग – अंत में, बियर को बोतल, कैन या कीग में पैक किया जाता है और बिक्री और खपत के लिए तैयार होता है।

इसे भी पढ़िए वाइन के हैं शौक़ीन तो जान लीजिये इसके फायदे और नुकसान

यह बियर बनाने की प्रक्रिया का एक सरल अवलोकन है, और बियर के प्रकार और शराब की भठ्ठी के आधार पर भिन्नता हो सकती है।

बीयर का मध्यम सेवन कुछ संभावित स्वास्थ्य लाभों से जुड़ा हुआ है, हालांकि यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि अत्यधिक बीयर पीने से स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। कम बियर या कण्ट्रोल में खपत के कुछ संभावित लाभ यहां दिए गए हैं:

हृदय रोग का कम जोखिम – बीयर के मध्यम सेवन के समान मध्यम बीयर का सेवन हृदय रोग के कम जोखिम से जुड़ा हुआ है। बीयर में एंटीऑक्सिडेंट, जैसे फ्लेवोनोइड्स, सूजन को कम करने और हृदय रोग से बचाने में मदद कर सकते हैं।

टाइप 2 मधुमेह का कम जोखिम – मध्यम बीयर का सेवन टाइप 2 मधुमेह के कम जोखिम से जुड़ा हुआ है। बीयर में पॉलीफेनोल्स होते हैं जो इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार करने और रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं।

हड्डियों का स्वास्थ्य – बीयर में सिलिकॉन होता है, जो हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है। मॉडरेट बीयर का सेवन ऑस्टियोपोरोसिस के कम जोखिम और हड्डियों के घनत्व में सुधार के साथ जुड़ा हुआ है।

जलयोजन – बीयर ज्यादातर पानी है और जलयोजन में मदद कर सकता है, खासकर गर्म मौसम के दौरान या व्यायाम के बाद।

सामाजिक लाभ – कम मात्रा में बीयर पीना एक सामाजिक गतिविधि हो सकती है और लोगों को दूसरों से अधिक जुड़ाव महसूस करने में मदद कर सकती है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि मध्यम बियर की खपत के संभावित लाभ हर किसी के लिए लागू नहीं होते हैं, और अत्यधिक पीने से किसी भी संभावित लाभ से अधिक हो सकता है। लोगों को हमेशा कम मात्रा में पीना चाहिए और अगर उन्हें बीयर के सेवन के बारे में चिंता है तो अपने डॉक्टर से बात करें।

बीयर के अत्यधिक सेवन से स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। बियर के सेवन के कुछ संभावित नुकसान इस प्रकार हैं:

बीयर पर निर्भरता – अत्यधिक बीयर के सेवन से शराब पर निर्भरता या लत लग सकती है, जिसका शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

वजन बढ़ना – बीयर में कैलोरी और कार्बोहाइड्रेट होते हैं, और अत्यधिक खपत वजन बढ़ाने और मोटापे में योगदान कर सकती है।

इसे भी पढ़िए : जानिए कितने प्रकार की होती है शराब और क्या होते हैं नुकसान और शायद कुछ फायदे भी 

कुछ प्रकार के कैंसर का बढ़ता जोखिम – अत्यधिक बीयर के सेवन को स्तन कैंसर, कोलोरेक्टल कैंसर और यकृत कैंसर जैसे कुछ प्रकार के कैंसर के बढ़ते जोखिम से जोड़ा गया है।

लीवर को नुकसान – अत्यधिक बीयर के सेवन से लीवर की बीमारी और सिरोसिस सहित लीवर को नुकसान हो सकता है।

निर्जलीकरण – जबकि बीयर मॉडरेशन में हाइड्रेशन में मदद कर सकती है, अत्यधिक खपत से निर्जलीकरण हो सकता है, खासकर जब गर्म मौसम या शारीरिक गतिविधि जैसे अन्य कारकों के साथ जोड़ा जाता है।

बिगड़ा निर्णय और समन्वय – अत्यधिक बीयर का सेवन निर्णय, समन्वय और प्रतिक्रिया समय को कम कर सकता है, जिससे दुर्घटनाओं और चोटों का खतरा बढ़ जाता है।

बीयर को कम मात्रा में पीना और अत्यधिक बीयर पीने के संभावित नकारात्मक प्रभावों से अवगत होना महत्वपूर्ण है। जो लोग बीयर पर निर्भरता या लत से जूझ रहे हैं उन्हें स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से मदद लेनी चाहिए।

खबर को शेयर करें ...

Related Posts

लालकुआँ-वाराणसी सिटी- लालकुआँ ग्रीष्मकालीन विशेष गाड़ी 29 अप्रैल से

रेल यात्रियों की सुविधा हेतु 05055 /05056 लालकुआँ-वाराणसी सिटी-लालकुआँ ग्रीष्मकालीन…

खबर को शेयर करें ...

(गज़ब) मियां-बीवी दोनों मिलकर देते थे चोरी की घटनाओं को अंजाम, फेरी के बहाने करते थे रेकी

लालकुआं क्षेत्र में चोरी/नकबजनी की घटनाओं में शामिल पति पत्नी…

खबर को शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

क्या ये आपने पढ़ा?

लालकुआँ-वाराणसी सिटी- लालकुआँ ग्रीष्मकालीन विशेष गाड़ी 29 अप्रैल से

लालकुआँ-वाराणसी सिटी- लालकुआँ ग्रीष्मकालीन विशेष गाड़ी 29 अप्रैल से

(गज़ब) मियां-बीवी दोनों मिलकर देते थे चोरी की घटनाओं को अंजाम, फेरी के बहाने करते थे रेकी

(गज़ब) मियां-बीवी दोनों मिलकर देते थे चोरी की घटनाओं को अंजाम, फेरी के बहाने करते थे रेकी

ईवीएम मशीनों को रखा गया स्ट्रांग रूम में, ऐसी है चाक-चौबंद सुरक्षा

ईवीएम मशीनों को रखा गया स्ट्रांग रूम में, ऐसी है चाक-चौबंद सुरक्षा

लालकुआं-हावड़ा ग्रीष्मकालीन विषेष गाड़ी के समय में हुआ बदलाव

लालकुआं-हावड़ा ग्रीष्मकालीन विषेष गाड़ी के समय में हुआ बदलाव

जैव विविधता से भरपूर उत्तराखंड में पक्षियों का एक अलग संसार बसता है- राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि)

जैव विविधता से भरपूर उत्तराखंड में पक्षियों का एक अलग संसार बसता है- राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि)

जंगल में लगने वाली आग पर काबू पाने के लिए राजस्व पुलिस के साथ महिला मंगल दल, युवक मंगल दल, स्वयं सहायता समूहों एवं आपदा मित्रों का भी रहेगा सहयोग

जंगल में लगने वाली आग पर काबू पाने के लिए राजस्व पुलिस के साथ महिला मंगल दल, युवक मंगल दल, स्वयं सहायता समूहों एवं आपदा मित्रों का भी रहेगा सहयोग