हर जगह बढ़ रही है जैविक खेती की मांग, जानिए इसके फायदे और नुकसान

[tta_listen_btn]

जैविक खेती कृषि की एक विधि है जो सिंथेटिक उर्वरकों, कीटनाशकों, या आनुवंशिक रूप से संशोधित जीवों (जीएमओ) के उपयोग के बिना फसलों और पशुओं के उत्पादन के लिए प्राकृतिक प्रक्रियाओं और तकनीकों पर निर्भर करती है। इसके बजाय, जैविक किसान मिट्टी, पौधों और जानवरों के पोषण और सुरक्षा के लिए प्राकृतिक सामग्री और विधियों का उपयोग करते हैं।

जैविक खेती को अक्सर पारंपरिक खेती के अधिक टिकाऊ और पर्यावरण के अनुकूल विकल्प के रूप में देखा जाता है, क्योंकि यह पर्यावरण पर कृषि के प्रभाव को कम करने और जैव विविधता को बढ़ावा देने का प्रयास करती है। जैविक किसान मिट्टी की उर्वरता बढ़ाने और कीटों और बीमारियों के जोखिम को कम करने के लिए फसल रोटेशन, इंटरक्रॉपिंग और कंपोस्टिंग जैसी तकनीकों का उपयोग कर सकते हैं।

मानव स्वास्थ्य और पर्यावरण दोनों के लिए जैविक खेती के कई लाभ हैं। जैविक खेती के कुछ सबसे महत्वपूर्ण लाभ यहां दिए गए हैं:

स्वस्थ भोजन: जैविक खाद्य पदार्थ सिंथेटिक कीटनाशकों और उर्वरकों से मुक्त होते हैं, जो मानव स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं। जैविक खेती के तरीके स्वस्थ मिट्टी को बढ़ावा देते हैं, जिससे अधिक पोषक तत्व-सघन उत्पादन होता है जो मानव उपभोग के लिए बेहतर होता है।

पर्यावरणीय स्थिरता: जैविक कृषि पद्धतियों का उद्देश्य पर्यावरण पर कृषि के प्रभाव को कम करना है। जैविक किसान फसल रोटेशन, कंपोस्टिंग और इंटरक्रॉपिंग जैसी तकनीकों का उपयोग करते हैं, जो मिट्टी की उर्वरता में सुधार कर सकते हैं, पानी का संरक्षण कर सकते हैं और प्रदूषण को कम कर सकते हैं।

जैव विविधता को बढ़ावा देना: जैविक खेती प्राकृतिक आवासों को संरक्षित करके और वन्यजीवों को नुकसान पहुंचाने वाले सिंथेटिक रसायनों के उपयोग को कम करके जैव विविधता को बढ़ावा देती है। जैविक किसान अक्सर कीटों को नियंत्रित करने के लिए प्राकृतिक शिकारियों का उपयोग करते हैं, जो पारिस्थितिक संतुलन बनाए रखने में मदद कर सकते हैं।

स्थानीय समुदायों का समर्थन (Supporting Local Communities): जैविक खेती किसानों और अन्य श्रमिकों के लिए रोजगार और आय प्रदान करके स्थानीय अर्थव्यवस्थाओं और समुदायों का समर्थन कर सकती है। पारंपरिक खेतों की तुलना में जैविक खेत अक्सर छोटे और अधिक विविध होते हैं, जो अधिक लचीला और टिकाऊ खाद्य प्रणाली बनाने में मदद कर सकते हैं।

जलवायु परिवर्तन शमन (Climate Change Mitigation) : जैविक कृषि पद्धतियाँ ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को कम करके और मिट्टी में कार्बन प्रच्छादन को बढ़ावा देकर जलवायु परिवर्तन को कम करने में मदद कर सकती हैं। जैविक खेत अक्सर कवर क्रॉपिंग और कम जुताई जैसी प्रथाओं का उपयोग करते हैं, जो कृषि के कार्बन पदचिह्न (footprints) को कम करने में मदद कर सकते हैं।

कुल मिलाकर, जैविक खेती कृषि के लिए अधिक टिकाऊ, स्वस्थ और पर्यावरण के अनुकूल दृष्टिकोण को बढ़ावा देती है। जबकि जैविक खेती से जुड़ी कुछ चुनौतियाँ हैं, जैसे कि पारंपरिक खेती की तुलना में उच्च श्रम लागत और कम पैदावार, जैविक खेती के लाभों को उपभोक्ताओं, किसानों और नीति निर्माताओं द्वारा समान रूप से पहचाना और महत्व दिया जा रहा है।

हालाँकि, जैविक खेती में कुछ चुनौतियाँ भी हैं, जिनमें पारंपरिक खेती की तुलना में कम पैदावार, उच्च श्रम लागत और प्रमाणीकरण बनाए रखने के लिए जैविक मानकों के सख्त पालन की आवश्यकता शामिल है। बहरहाल, कई किसान और उपभोक्ता स्थायी कृषि को बढ़ावा देने और लोगों और ग्रह के स्वास्थ्य और भलाई में सुधार के तरीके के रूप में जैविक खेती को अपना रहे हैं।

जहाँ जैविक खेती के कई लाभ हैं, वहीं कृषि की इस पद्धति के कुछ संभावित नुकसान भी हैं। यहाँ जैविक खेती के कुछ सबसे महत्वपूर्ण नुकसान हैं:

कम पैदावार: पारंपरिक खेती के तरीकों की तुलना में जैविक खेती से अक्सर कम उत्पादन होता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि जैविक किसान सिंथेटिक उर्वरकों और कीटनाशकों का उपयोग नहीं करते हैं, जिससे फसल की पैदावार बढ़ सकती है। परिणामस्वरूप, जैविक किसानों को कम पैदावार की भरपाई के लिए अधिक फसलें लगाने की आवश्यकता हो सकती है, जिसके लिए अधिक भूमि और संसाधनों की आवश्यकता हो सकती है।

उच्च श्रम लागत: जैविक खेती में पारंपरिक खेती की तुलना में अधिक शारीरिक श्रम की आवश्यकता होती है। जैविक किसानों को खरपतवारों को हाथ लगाने और फसलों की खेती करने की आवश्यकता हो सकती है, साथ ही प्राकृतिक कीट नियंत्रण विधियों जैसे कि फसल चक्रण और जैविक नियंत्रणों का उपयोग करना पड़ सकता है। इसके परिणामस्वरूप जैविक किसानों के लिए उच्च श्रम लागत हो सकती है।

प्रमाणन आवश्यकताएँ: जैविक किसानों को अपने उत्पादों को जैविक के रूप में विपणन करने में सक्षम होने के लिए सख्त प्रमाणन आवश्यकताओं का पालन करना चाहिए। ये आवश्यकताएं समय लेने वाली और महंगी हो सकती हैं, और किसानों को विस्तृत रिकॉर्ड रखने और निरीक्षण के लिए भुगतान करने की आवश्यकता हो सकती है।

सीमित उपलब्धता और उच्च मूल्य: पारंपरिक रूप से उगाए गए खाद्य पदार्थों की तुलना में जैविक खाद्य पदार्थ अधिक महंगे हो सकते हैं, और कुछ क्षेत्रों में आसानी से उपलब्ध नहीं हो सकते हैं। इससे उपभोक्ताओं के लिए बजट पर जैविक खाद्य पदार्थों तक पहुंचना मुश्किल हो सकता है।

कीट और रोग नियंत्रण चुनौतियाँ: जैविक किसान प्राकृतिक कीट और रोग नियंत्रण विधियों पर भरोसा करते हैं, जो सिंथेटिक कीटनाशकों और फफूंदनाशकों की तुलना में कम प्रभावी हो सकते हैं। इससे फसल का नुकसान बढ़ सकता है और पैदावार कम हो सकती है।

इन नुकसानों के बावजूद, जैविक खेती कृषि का एक लोकप्रिय और महत्वपूर्ण तरीका बना हुआ है। कई उपभोक्ताओं और किसानों का मानना है कि जैविक खेती के लाभ, जैसे मिट्टी के स्वास्थ्य में सुधार, पर्यावरणीय प्रभाव में कमी, और स्वस्थ भोजन, संभावित कमियों को दूर करते हैं।

खबर को शेयर करें ...

Related Posts

(उत्तराखंड विधानसभा उपचुनाव) बद्रीनाथ व मंगलौर से जीती कांग्रेस, भाजपा को मिली करारी हार

बद्रीनाथ विधानसभा उप चुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार श्री लखपत सिंह…

खबर को शेयर करें ...

एससी एवं एसटी को विभिन्न योजनाओं का लाभ एक ही प्लेटफार्म पर मिले, इसके लिए बनेगी एकीकृत व्यवस्था – सीएम धामी

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी की अध्यक्षता में आज मुख्यमंत्री…

खबर को शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

क्या ये आपने पढ़ा?

(उत्तराखंड विधानसभा उपचुनाव) बद्रीनाथ व मंगलौर से जीती कांग्रेस, भाजपा को मिली करारी हार

(उत्तराखंड विधानसभा उपचुनाव) बद्रीनाथ व मंगलौर से जीती कांग्रेस, भाजपा को मिली करारी हार

एससी एवं एसटी को विभिन्न योजनाओं का लाभ एक ही प्लेटफार्म पर मिले, इसके लिए बनेगी एकीकृत व्यवस्था – सीएम धामी

एससी एवं एसटी को विभिन्न योजनाओं का लाभ एक ही प्लेटफार्म पर मिले, इसके लिए बनेगी एकीकृत व्यवस्था – सीएम धामी

एसडीजी रिपोर्ट की रैंकिंग में उत्तराखंड ने सर्वाधिक अंक लेकर हासिल किया पहला स्थान

एसडीजी रिपोर्ट की रैंकिंग में उत्तराखंड ने सर्वाधिक अंक लेकर हासिल किया पहला स्थान

(रुद्रपुर) यहां अतिक्रमण हटाने की ऊधम सिंह नगर पुलिस प्रशासन की तैयारी पूरी। 1200 से भी अधिक पुलिस एवं पीएसी बल तथा फायर ब्रिगेड रहेगी मौजूद।

(रुद्रपुर) यहां अतिक्रमण हटाने की ऊधम सिंह नगर पुलिस प्रशासन की तैयारी पूरी। 1200 से भी अधिक पुलिस एवं पीएसी बल तथा फायर ब्रिगेड रहेगी मौजूद।

(नगला) बाइक में भरवाया 5 ली. पेट्रोल, कुछ दूर चलने के बाद बंद हुई बाइक, पता चला आधा पानी है, मुख्यमंत्री पोर्टल पर की गयी शिकायत

(नगला) बाइक में भरवाया 5 ली. पेट्रोल, कुछ दूर चलने के बाद बंद हुई बाइक, पता चला आधा पानी है, मुख्यमंत्री पोर्टल पर की गयी शिकायत

(राष्ट्रीय मत्स्य पालन दिवस) पंतनगर में मत्स्य पालकों को कार्प प्रजातियों के लगभग एक लाख मत्स्य बीज का किया गया वितरण

(राष्ट्रीय मत्स्य पालन दिवस) पंतनगर में मत्स्य पालकों को  कार्प प्रजातियों के लगभग एक लाख मत्स्य बीज का किया गया वितरण