कॉमरेड कंचन लाल को 2 मिनट का मौन रखकर इंकलाबी मजदूर केन्द्र एवं ठेका मजदूर कल्याण समिति व प्रगतिशील महिला एकता केंद्र द्वारा दी गई श्रद्धांजलि।

इंकलाबी मजदूर केन्द्र एवं ठेका मजदूर कल्याण समिति व प्रगतिशील महिला एकता केंद्र द्वारा रामलीला मैदान पंतनगर में श्रद्धांजलि सभा में कॉमरेड कंचन लाल को दो मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि अर्पित की गयी और उनकी प्रतिमा पर पुष्प अर्पित किये गए।

सभा में वक्ताओं ने कहा कि कामरेड कंचन लाल प्रगतिशील सांस्कृतिक मंच बरेली के सचिव थे। 16 सितंबर 2021 को 52 वर्ष की आयु में निधन हो गया। वे कैंसर से पीड़ित थे।

कामरेड कंचन लाल किसानों , महिलाओं, छात्रों,मजदूरों – मेहनतकशों के मुक्तिकामी संघर्षों के प्रति समर्पित रहे। वे क्रांतिकारी लोक अधिकार संगठन, फिर इंकलाबी मजदूर केंद्र में भी सक्रिय रहे। उन्होंने प्रगतिशील सांस्कृतिक मंच के गठन/निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की। उसे मजदूरों-मेहनतकशों संस्कृति के प्रतीक के रूप में ढालने में अथक मेहनत की। मजदूरों-मेहनतकशों के संघर्षों में उनकी ढपली की थाप, जोशीले भाव भरे स्वरों की ललकार जन समूह में जोश भरती रही। जन संगठनों के साथ सहकार में उनकी सक्रियता, आत्मीयता, त्याग, समर्पण बहुत ही स्मरणीय रहा। वे हर तरह के कामों में जुट जाते, कार्यक्रमों को ध्यानपूर्वक देखते परखते और बेबाक सुझाव देते।

बीमारी से पूर्व वे गाजीपुर बॉर्डर में लगभग 8 माह से किसान आंदोलन में रहे। किसान आंदोलन में उन्हें मजदूरों-मेहनतकशो की आवाज के रूप में मान और सम्मान दिया।

छात्रों-नौजवानों, मजदूरों, मेहनतकशों शोषितों, उत्पीड़ितों के दुःख दर्दों के मुक्तिकामी संघर्षों के प्रति समर्पित जुझारू साहसी, बहादुर साथी कंचन लाल की दुखद मृत्यु से मजदूर वर्ग के क्रांतिकारी संघर्षों में अपूर्ण क्षति हुई है। संकटग्रस्त पूंजीवादी व्यवस्था में 45 वर्षों में सबसे ज्यादा बेरोजगारी है। अघोषित युद्ध की तरह बीमारी से मरते बच्चे, बुजुर्ग, महिलाएं , पूंजीपरस्त तीन काले कानूनों के खिलाफ लड़ते शहीद होते किसान, इस दौरान कामरेड कंचन सहित कई किसान , मजदूर आंदोलन में शहीद हो चुके है।

ठेका मजदूर कल्याण समिति के अभिलाख सिंह ने कहा कि यह श्रद्धांजलि सभा उनके त्याग समर्पण को भावपूर्ण स्मरण करती है। दिवंगत साथी को “लाल सलाम” कहकर श्रद्धांजलि अर्पित करती है। हम उनके त्याग समर्पण को याद करते रखते हुए, क्रांतिकारी विरासत को आगे बढ़ाने की उनकी कमी की भरपाई करने का संकल्प लेते हैं।

कार्यक्रम में मीना, सोना, राजकली, पूजा, पुष्पा सिंह, राशिद, मनोज कुमार, अभिलाख सिंह, रमेश कुमार, सुभाष, जे०पी० सिंह, पृथ्वीराज गौतम, सुरेश ,छत्रपाल,विकास, श्रवण कुमार, भूपेन्द्र,भरत यादव,आदि शामिल रहे।

खबर को शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

क्या आपने यह ख़बर पढ़ी

error: Content is protected !!