कंप्यूटर पर लम्बे समय तक काम करना है मज़बूरी, तो रखें इन बातों का ध्यान और दुरुस्त रखें अपनी सेहत

[tta_listen_btn]

वर्तमान में कंप्यूटर/लैपटॉप और मोबाइल हमारे जीवन का अहम् हिस्सा बन चुके हैं। इनके बिना विभिन्न प्रकार के कार्यों को आसानी से अंजाम नहीं दिया जा सकता है। वैसे तो कंप्यूटर पर लंबे समय तक काम करने से स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है, ऐसी स्थितियाँ होती हैं जहाँ ऐसा करना आवश्यक या महत्वपूर्ण हो सकता है। यहां कुछ संभावित कारण बताए गए हैं कि लंबे समय तक कंप्यूटर का काम करना क्यों महत्वपूर्ण है :

कार्य आवश्यकताएँ : आज कई नौकरियों के लिए कंप्यूटर और प्रौद्योगिकी के व्यापक उपयोग की आवश्यकता होती है, जैसे सॉफ्टवेयर विकास, ग्राफिक डिज़ाइन या डेटा विश्लेषण। इन व्यवसायों में, समय सीमा को पूरा करने और परियोजनाओं को पूरा करने के लिए लंबे समय तक कंप्यूटर पर काम करना आवश्यक हो सकता है।

दूरस्थ कार्य : दूरस्थ कार्य विकल्पों की पेशकश करने वाली अधिक कंपनियों के साथ, कई कर्मचारियों को अब घर से काम करने और कंप्यूटर प्रौद्योगिकी पर बहुत अधिक निर्भर रहने की आवश्यकता है। इसका मतलब यह हो सकता है कि पारंपरिक कार्यालय सेटिंग की तुलना में कंप्यूटर पर अधिक समय तक काम करना होगा।

शिक्षा : कई छात्र अब ऑनलाइन कक्षाओं में भाग लेते हैं, जिसके लिए कंप्यूटर पर महत्वपूर्ण समय बिताना पड़ता है। इसके अतिरिक्त, छात्रों को कंप्यूटर पर शोध या लेखन कार्य पूरा करने की आवश्यकता हो सकती है, जिसमें अधिक समय लग सकता है।

व्यक्तिगत रुचियां : बहुत से लोग गेमिंग, वीडियो संपादन, या ऑनलाइन रचनात्मक परियोजनाओं जैसी गतिविधियों में संलग्न होते हैं, जिसके लिए कंप्यूटर के उपयोग की विस्तारित अवधि की आवश्यकता हो सकती है।

हालांकि लंबे समय तक कंप्यूटर पर काम करते समय अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखना महत्वपूर्ण है, लेकिन ऐसी कई स्थितियां हैं जहां ऐसा करना आवश्यक या महत्वपूर्ण हो सकता है।

कंप्यूटर पर लंबे समय तक काम करना चुनौतीपूर्ण हो सकता है और इससे विभिन्न स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। इस समस्या से निपटने में आपकी मदद करने के लिए यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं :

  • बार-बार ब्रेक लें : अपनी आंखों को आराम देने और अपनी मांसपेशियों को स्ट्रेच करने के लिए हर 20 से 30 मिनट में ब्रेक लेना जरूरी है। आप एक ब्रेक लेने या एक उत्पादकता ऐप का उपयोग करने के लिए याद दिलाने के लिए एक टाइमर सेट कर सकते हैं जो आपके कार्य शेड्यूल में नियमित ब्रेक को शामिल करता है।
  • अपने पोस्चर को एडजस्ट करें : खराब पोस्चर के कारण पीठ, गर्दन और कंधे में दर्द हो सकता है। सुनिश्चित करें कि आपकी कुर्सी सही ऊंचाई पर है, आपके पैर जमीन पर सपाट हैं और टाइप करते समय आपकी कलाई सीधी है। अपने पैरों को जमीन पर सपाट करके सीधे बैठें, आपके कंधे रिलैक्स हों और आपकी बाहें आपके शरीर के करीब हों। अपनी कुर्सी और डेस्क की ऊंचाई को समायोजित करें ताकि टाइप करते समय आपकी बाहें और कलाई तटस्थ स्थिति में हों।
  • उचित प्रकाश का प्रयोग करें : अपनी आँखों पर तनाव कम करने के लिए परिवेशी प्रकाश या टास्क लाइट का उपयोग करें। कम रोशनी वाले कमरे में काम करने से बचें, इससे आंखों में खिंचाव और सिरदर्द हो सकता है।
  • अपनी स्क्रीन की चमक और कंट्रास्ट समायोजित करें : अपनी स्क्रीन को देखने में आरामदायक बनाने के लिए उसकी चमक और कंट्रास्ट समायोजित करें। अंधेरे कमरे में या तेज धूप में काम करने से बचें।
  • हाइड्रेटेड रहें : हाइड्रेटेड रहने के लिए खूब पानी पिएं। निर्जलीकरण सिरदर्द और आंखों की थकान का कारण बन सकता है।
  • अपनी आंखों का ख्याल रखें : अपनी आंखों को नम रखने के लिए कृत्रिम आंसू या आई ड्रॉप का इस्तेमाल करें। आंखों के तनाव को कम करने के लिए अपनी स्क्रीन पर फ़ॉन्ट आकार और रंग योजना समायोजित करें। अपनी आंखों को आराम देने, अपने पैरों को स्ट्रेच करने और अपने शरीर को हिलाने-डुलाने के लिए नियमित ब्रेक लें। 20-20-20 नियम हर 20 मिनट में स्क्रीन से दूर देखने और 20 सेकंड के लिए कम से कम 20 फीट दूर किसी चीज़ पर ध्यान केंद्रित करने का सुझाव देता है।
  • उचित उपकरण का उपयोग करें : अपने हाथों और कलाई पर तनाव कम करने के लिए एर्गोनॉमिक कीबोर्ड और माउस का उपयोग करें। मॉनिटर को अपनी आंखों से सही ऊंचाई और दूरी पर समायोजित करें।
  • नियमित रूप से पलकें झपकाएं : कंप्यूटर स्क्रीन को देखते समय लोग कम बार झपकाते हैं, जिससे आंखें सूख सकती हैं। अपनी आंखों को नम रखने के लिए बार-बार झपकने का सचेत प्रयास करें।
  • स्क्रीन समय सीमित करें : यदि संभव हो, तो अपना स्क्रीन समय सीमित करने का प्रयास करें। ऐसी गतिविधियाँ करने के लिए ब्रेक लें जिनमें कंप्यूटर की आवश्यकता नहीं होती है, जैसे टहलना या किताब पढ़ना।
  • रात को अच्छी नींद लें : नींद की कमी से आंखों में तनाव और अन्य स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। सुनिश्चित करें कि आप आराम और तरोताजा महसूस करने के लिए पर्याप्त नींद ले रहे हैं।

इन युक्तियों का पालन करके, आप लंबे समय तक कंप्यूटर पर काम करते समय असुविधा और स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के जोखिम को कम कर सकते हैं।

खबर को शेयर करें ...

Related Posts

8वीं और 10वीं पास युवाओं को मिलेगा ITI में प्रवेश का अवसर, यहाँ करें ऑनलाइन अप्लाई, ये है अंतिम तारीख

आठवीं और दसवीं पास युवाओं के लिए सुनहरा अवसर है,…

खबर को शेयर करें ...

राष्ट्रीय स्तर की ये परीक्षा हुई रद्द, होगी दोबारा, मामले की सी.बी.आई. करेगी जांच

राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (एनटीए) ने 18 जून, 2024 को देश…

खबर को शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

क्या ये आपने पढ़ा?

8वीं और 10वीं पास युवाओं को मिलेगा ITI में प्रवेश का अवसर, यहाँ करें ऑनलाइन अप्लाई, ये है अंतिम तारीख

8वीं और 10वीं पास युवाओं को मिलेगा ITI में प्रवेश का अवसर, यहाँ करें ऑनलाइन अप्लाई, ये है अंतिम तारीख

राष्ट्रीय स्तर की ये परीक्षा हुई रद्द, होगी दोबारा, मामले की सी.बी.आई. करेगी जांच

राष्ट्रीय स्तर की ये परीक्षा हुई रद्द, होगी दोबारा, मामले की सी.बी.आई. करेगी जांच

घर से 220 किलो गौमांस के साथ गौकशी उपकरण बरामद। एक ही परिवार के 4 आरोपी आए गिरफ्त में, ननद, देवर, भाभी हैं शामिल।

घर से 220 किलो गौमांस के साथ गौकशी उपकरण बरामद। एक ही परिवार के 4 आरोपी आए गिरफ्त में, ननद, देवर, भाभी हैं शामिल।

स्विफ्ट कार लगभग 200 मीटर गहरी खाई में गिरी और पहाड़ी पर अटक गयी, फिर क्रेन के भी हो गए ब्रेक फेल। एसडीआरएफ ने किया रेस्क्यू

स्विफ्ट कार लगभग 200 मीटर गहरी खाई में गिरी और पहाड़ी पर अटक गयी, फिर क्रेन के भी हो गए ब्रेक फेल। एसडीआरएफ ने किया रेस्क्यू

सोशल मीडिया पर लाइक, कमेंट और व्यूवर्स बढ़ाने के चक्कर में यूट्यूबर ने किया ऐसा काम, फिर मांगनी पड़ी माफ़ी

सोशल मीडिया पर लाइक, कमेंट और व्यूवर्स बढ़ाने के चक्कर में यूट्यूबर ने किया ऐसा काम, फिर मांगनी पड़ी माफ़ी

(दीजिये शुभकामनायें) पन्त विश्वविद्यालय के इन 4 विद्यार्थियों का हुआ नामी कम्पनी में चयन, मिला ये पैकेज

(दीजिये शुभकामनायें) पन्त विश्वविद्यालय के इन 4 विद्यार्थियों का हुआ नामी कम्पनी में चयन, मिला ये पैकेज