कागज के बारे में तो सभी जानते हैं, जानिए ये कैसे बनता है, इसके उपयोग और पेपर वेस्ट के क्या हैं नुकसान

[tta_listen_btn]

कागज पौधे के तंतुओं से बनी सामग्री है, आमतौर पर पेड़ों या पुनर्नवीनीकरण कागज से। कागज का इतिहास प्राचीन काल का है, प्राचीन मिस्र और चीन में कागज जैसी सामग्री के उपयोग के प्रमाण मिलते हैं। कागज आधुनिक जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा बन गया है, जिसका उपयोग लिखने और छपाई से लेकर पैकेजिंग और स्वच्छता उत्पादों तक हर चीज में किया जाता है।

कागज के मुख्य घटक सेल्युलोज फाइबर होते हैं, जो पौधों से प्राप्त होते हैं जैसे कि पेड़ या पुनर्नवीनीकरण कागज। अन्य घटकों में पेपर के गुण, जैसे ताकत, चमक और सफेदी में सुधार करने के लिए उपयोग किए जाने वाले फिलर्स, बाइंडर्स और रसायन शामिल हो सकते हैं। पेपर को विभिन्न प्रक्रियाओं का उपयोग करके बनाया जा सकता है, जैसे कि क्राफ्ट प्रक्रिया, सल्फाइट प्रक्रिया या यांत्रिक प्रक्रिया।

कागज के प्रकार और इच्छित उपयोग के आधार पर कागज की विशेषताएं भिन्न हो सकती हैं। कुछ कागज पतले और हल्के होने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं, जबकि अन्य मोटे और मजबूत हैं। इसकी छपाई या पैकेजिंग गुणों को बेहतर बनाने के लिए कागज को भी लेपित किया जा सकता है। कागज़ का रंग, बनावट और फिनिश भी इच्छित उपयोग के आधार पर भिन्न हो सकता है।

कागज एक नवीकरणीय संसाधन है, क्योंकि पेड़ों को फिर से लगाया जा सकता है और कागज को पुनर्नवीनीकरण किया जा सकता है। हालांकि, कागज के उत्पादन और निपटान के पर्यावरणीय प्रभाव हो सकते हैं, जैसे कि वनों की कटाई और अपशिष्ट उत्पादन। नतीजतन, कागज उद्योग में टिकाऊ प्रथाओं को बढ़ावा देने के प्रयास किए जा रहे हैं, जैसे कि पुनर्नवीनीकरण कागज का उपयोग करना, कचरे को कम करना और नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों का उपयोग करना।

कागज बनाने की प्रक्रिया में कई चरण शामिल हैं:

कच्चा माल तैयार करना: कागज बनाने की प्रक्रिया में पहला कदम कच्चा माल प्राप्त करना है, जिसमें लकड़ी की लुगदी, पुनर्नवीनीकरण कागज, और अन्य सामग्री जैसे कपास या लिनन शामिल हो सकते हैं। कच्चे माल को आमतौर पर पेपर मिल में गांठों में पहुंचाया जाता है, जो बाद में छोटे टुकड़ों में टूट जाते हैं।

पल्पिंग: पल्प बनाने के लिए कच्चे माल को फिर पानी और रसायनों के साथ मिलाया जाता है। उपयोग किए जाने वाले रसायनों में कागज की वांछित गुणवत्ता और गुणों के आधार पर विरंजक, रंजक और अन्य योजक शामिल हो सकते हैं।

छानना और सफाई: गंदगी, चट्टानों और छाल जैसी अशुद्धियों को दूर करने के लिए गूदे की छंटाई की जाती है। इसके बाद बचे हुए कचरे को हटाने के लिए इसे साफ किया जाता है।

रिफाइनिंग: लुगदी को फिर किसी भी बचे हुए टुकड़े को तोड़ने और एक चिकनी और समान बनावट बनाने के लिए परिष्कृत किया जाता है।

पेपरमेकिंग: घोल बनाने के लिए परिष्कृत गूदे को अधिक पानी के साथ मिलाया जाता है। इस घोल को फिर एक सपाट सतह पर डाला जाता है जिसे वायर स्क्रीन या फोरड्रिनियर मशीन कहा जाता है। जैसे ही घोल से पानी निकलता है, रेशे आपस में जुड़कर कागज की एक शीट बनाते हैं।

प्रेसिंग: कागज़ को तब दबाया जाता है ताकि कोई बचा हुआ पानी निकल जाए और एक चिकनी सतह बन जाए।

सुखाना: कागज को या तो हवा में सुखाया जाता है या गर्म रोलर्स का उपयोग करके सुखाया जाता है।

फिनिशिंग: पेपर तब समाप्त हो जाता है, जिसमें कोटिंग, साइजिंग, कटिंग और पैकेजिंग शामिल हो सकते हैं।

यह प्रक्रिया कागज के प्रकार, उपयोग की जाने वाली कच्ची सामग्री और कागज की वांछित गुणवत्ता और गुणों के आधार पर भिन्न हो सकती है।

कागज का उपयोग

कागज एक बहुमुखी प्रयोग की सामग्री है जिसके कई अलग-अलग उपयोग हैं, जिनमें से कुछ में शामिल हैं:

लेखन और छपाई: कागज के सबसे आम उपयोगों में से एक लेखन और छपाई के लिए है। कागज का उपयोग किताबें, समाचार पत्र, पत्रिकाएं और अन्य मुद्रित सामग्री बनाने के लिए किया जाता है।

पैकेजिंग: कागज का उपयोग पैकेजिंग सामग्री जैसे बक्से, बैग और रैपिंग पेपर बनाने के लिए किया जाता है।

स्वच्छता उत्पाद: कागज का उपयोग टिश्यू, टॉयलेट पेपर और अन्य स्वच्छता उत्पादों को बनाने के लिए किया जाता है।

कला और शिल्प: कला और शिल्प परियोजनाओं के लिए कागज का उपयोग किया जाता है, जिसमें ओरिगेमी, स्क्रैपबुकिंग और पेपर माचे शामिल हैं।

निर्माण: कागज का उपयोग इन्सुलेशन के रूप में, ड्राईवॉल और अन्य निर्माण अनुप्रयोगों में किया जाता है।

मुद्रा: करेंसी नोट बनाने के लिए कागज का उपयोग किया जाता है।

लेबल और स्टिकर: उत्पादों और पैकेजिंग के लिए लेबल और स्टिकर बनाने के लिए कागज का उपयोग किया जाता है।

शिक्षा और शिक्षा: कागज का उपयोग नोट लेने, फ्लैशकार्ड बनाने और अन्य शैक्षिक उद्देश्यों के लिए किया जाता है।

खाद्य उद्योग: कागज का उपयोग फिल्टर और टी बैग बनाने के लिए किया जाता है।

चिकित्सा उद्योग: चिकित्सा उत्पादों की पैकेजिंग के लिए कागज का उपयोग किया जाता है।

कुल मिलाकर, कागज एक आवश्यक सामग्री है जिसका हमारे दैनिक जीवन में कई उपयोग हैं।

पेपर वेस्ट (कागज बर्बादी) के कई नुकसान हैं, जिनमें शामिल हैं:

पर्यावरणीय प्रभाव: कागज के कचरे के निपटान से पर्यावरण पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। लैंडफिल में पेपर कचरा मीथेन गैस पैदा करता है, जो एक शक्तिशाली ग्रीनहाउस गैस है जो जलवायु परिवर्तन में योगदान करती है। इससे मिट्टी और जल प्रदूषण भी हो सकता है।

वनों की कटाई: कागज के उत्पादन के लिए पेड़ों के उपयोग की आवश्यकता होती है, जिससे वनों की कटाई और वन्य जीवन के आवास विनाश हो सकते हैं।

संसाधन की कमी: कागज के उत्पादन में महत्वपूर्ण मात्रा में पानी और ऊर्जा की आवश्यकता होती है, जिससे संसाधनों की कमी हो सकती है।

संसाधनों की बर्बादी: जब कागज बर्बाद होता है, तो यह उन संसाधनों की बर्बादी होती है, जिनका उपयोग इसे बनाने में किया जाता है, जैसे कि पानी, ऊर्जा और पेड़।

खबर को शेयर करें ...

Related Posts

8वीं और 10वीं पास युवाओं को मिलेगा ITI में प्रवेश का अवसर, यहाँ करें ऑनलाइन अप्लाई, ये है अंतिम तारीख

आठवीं और दसवीं पास युवाओं के लिए सुनहरा अवसर है,…

खबर को शेयर करें ...

राष्ट्रीय स्तर की ये परीक्षा हुई रद्द, होगी दोबारा, मामले की सी.बी.आई. करेगी जांच

राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (एनटीए) ने 18 जून, 2024 को देश…

खबर को शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

क्या ये आपने पढ़ा?

8वीं और 10वीं पास युवाओं को मिलेगा ITI में प्रवेश का अवसर, यहाँ करें ऑनलाइन अप्लाई, ये है अंतिम तारीख

8वीं और 10वीं पास युवाओं को मिलेगा ITI में प्रवेश का अवसर, यहाँ करें ऑनलाइन अप्लाई, ये है अंतिम तारीख

राष्ट्रीय स्तर की ये परीक्षा हुई रद्द, होगी दोबारा, मामले की सी.बी.आई. करेगी जांच

राष्ट्रीय स्तर की ये परीक्षा हुई रद्द, होगी दोबारा, मामले की सी.बी.आई. करेगी जांच

घर से 220 किलो गौमांस के साथ गौकशी उपकरण बरामद। एक ही परिवार के 4 आरोपी आए गिरफ्त में, ननद, देवर, भाभी हैं शामिल।

घर से 220 किलो गौमांस के साथ गौकशी उपकरण बरामद। एक ही परिवार के 4 आरोपी आए गिरफ्त में, ननद, देवर, भाभी हैं शामिल।

स्विफ्ट कार लगभग 200 मीटर गहरी खाई में गिरी और पहाड़ी पर अटक गयी, फिर क्रेन के भी हो गए ब्रेक फेल। एसडीआरएफ ने किया रेस्क्यू

स्विफ्ट कार लगभग 200 मीटर गहरी खाई में गिरी और पहाड़ी पर अटक गयी, फिर क्रेन के भी हो गए ब्रेक फेल। एसडीआरएफ ने किया रेस्क्यू

सोशल मीडिया पर लाइक, कमेंट और व्यूवर्स बढ़ाने के चक्कर में यूट्यूबर ने किया ऐसा काम, फिर मांगनी पड़ी माफ़ी

सोशल मीडिया पर लाइक, कमेंट और व्यूवर्स बढ़ाने के चक्कर में यूट्यूबर ने किया ऐसा काम, फिर मांगनी पड़ी माफ़ी

(दीजिये शुभकामनायें) पन्त विश्वविद्यालय के इन 4 विद्यार्थियों का हुआ नामी कम्पनी में चयन, मिला ये पैकेज

(दीजिये शुभकामनायें) पन्त विश्वविद्यालय के इन 4 विद्यार्थियों का हुआ नामी कम्पनी में चयन, मिला ये पैकेज