क्या आप जानते हैं अरेंज मैरिज के इन फायदों और नुकसान के बारे में?

0

अरेंज्ड मैरिज एक प्रकार का विवाह है जहां वर और वधू के परिवार अपने साथी को चुनने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। एक अरेंज मैरिज में, शादी के इरादे से एक-दूसरे से मिलवाने से पहले जोड़े के बीच बहुत कम या कोई पूर्व बातचीत नहीं हो सकती है।

परंपरागत रूप से, अरेंज मैरिज कई संस्कृतियों और धर्मों में आम थी, जहां शादी को सिर्फ दो व्यक्तियों के बजाय दो परिवारों के बीच एक मिलन के रूप में देखा जाता था। ऐसे विवाहों में, माता-पिता या परिवार के बुजुर्ग संभावित भागीदारों की तलाश करेंगे जो समान सांस्कृतिक और धार्मिक विश्वासों, मूल्यों और सामाजिक आर्थिक स्थिति को साझा करते हों।

अरेंज मैरिज कई रूप ले सकती है, सेमी-अरेंज्ड मैरिज (जहां जोड़े के फैसले में कुछ कहना है) से लेकर जबरन शादी (जहां जोड़े के पास इस मामले में कोई विकल्प नहीं है) तक हो सकता है।

हालाँकि, बदलते समय के साथ, अरेंज मैरिज का चलन कम हो गया है, कई लोग लव मैरिज का विकल्प चुनते हैं जहाँ वे आपसी प्यार और आकर्षण के आधार पर अपने पार्टनर चुनते हैं।

अरेंज मैरिज के कुछ फायदों में शामिल हैं:

मजबूत परिवार का समर्थन: अरेंज्ड मैरिज में, दूल्हा और दुल्हन के परिवार शादी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसका मतलब यह है कि दंपति को दोनों ओर से मजबूत पारिवारिक समर्थन प्राप्त है, जो उनके विवाहित जीवन के दौरान आराम और मार्गदर्शन का एक बड़ा स्रोत हो सकता है।

संगतता: अरेंज मैरिज में, परिवार अक्सर सांस्कृतिक और धार्मिक विश्वासों, मूल्यों और सामाजिक आर्थिक स्थिति के संदर्भ में जोड़े की अनुकूलता को ध्यान में रखते हैं। इससे यह सुनिश्चित करने में मदद मिल सकती है कि युगल के पास एक सफल विवाह के लिए एक मजबूत आधार है।

डेटिंग का तनाव कम होता है: अरेंज्ड मैरिज में, जोड़े को शादी के इरादे से पेश किया जाता है, जिससे डेटिंग का तनाव खत्म हो जाता है और एक अनुकूल साथी मिल जाता है।

साझा जिम्मेदारी: अरेंज मैरिज में, दोनों परिवार विवाह की सफलता सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी साझा करते हैं। यह युगल को एक सहायता प्रणाली और सुरक्षा की भावना प्रदान कर सकता है।

परंपरा का सम्मान: अरेंज मैरिज अक्सर परंपरा और सांस्कृतिक मूल्यों में गहराई से निहित होती हैं, और आने वाली पीढ़ियों के लिए इन रीति-रिवाजों को संरक्षित करने में मदद कर सकती हैं।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि व्यवस्थित विवाह उनकी चुनौतियों के बिना नहीं हैं और सभी के लिए नहीं हैं। हालांकि, कुछ व्यक्तियों और संस्कृतियों के लिए, वे जीवन साथी खोजने का एक सफल और पूरा करने वाला तरीका हो सकते हैं।

जबकि अरेंज मैरिज के कई संभावित फायदे हैं, इसके कुछ संभावित नुकसान भी हैं, जिनमें शामिल हैं:

सीमित व्यक्तिगत पसंद: एक अरेंज मैरिज में, जोड़े को अपना जीवन साथी चुनने में सीमित अधिकार हो सकते हैं, और हो सकता है कि शादी से पहले एक-दूसरे को जानने का अवसर न मिले।

सांस्कृतिक और धार्मिक अंतर: अरेंज्ड मैरिज में, युगल अलग-अलग सांस्कृतिक और धार्मिक पृष्ठभूमि से आ सकते हैं, जिससे संघर्ष और गलतफहमी हो सकती है।

अनुरूप होने का दबाव: कुछ मामलों में, पारंपरिक लिंग भूमिकाओं या अपेक्षाओं के अनुरूप परिवार के सदस्यों का दबाव हो सकता है, जिससे विवाह में तनाव और असंतोष हो सकता है।

आपसी आकर्षण की कमी: कुछ मामलों में, युगल शारीरिक या भावनात्मक रूप से एक-दूसरे के प्रति आकर्षित नहीं हो सकते हैं, जिससे एक मजबूत और स्थायी संबंध बनाना मुश्किल हो सकता है।

संचार की कमी: यदि शादी से पहले जोड़े के बीच सीमित बातचीत होती है, तो खुला और ईमानदार संचार स्थापित करना मुश्किल हो सकता है, जो एक स्वस्थ और सफल विवाह के लिए आवश्यक है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि ये नुकसान सार्वभौमिक नहीं हैं और हर अरेंज मैरिज पर लागू नहीं हो सकते हैं। यह व्यक्तियों पर निर्भर है कि वे अरेंज्ड मैरिज के नफा-नुकसान को तौलें और अपनी परिस्थितियों और मूल्यों के आधार पर एक निर्णय लें।

खबर को शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *