क्या आप भी हैं मोटापे से परेशान? जानिए फायदे, नुकसान और इससे बचने के उपाय

1

मोटापा क्या है ?

मोटापा एक ऐसी स्थिति है, जिसमें एक व्यक्ति के शरीर में अत्यधिक मात्रा में वसा होता है जो संभावित रूप से नकारात्मक स्वास्थ्य परिणामों को जन्म दे सकता है। इसे आमतौर पर 30 या उससे अधिक के बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) के रूप में परिभाषित किया जाता है, जिसकी गणना किलोग्राम में किसी व्यक्ति के वजन को मीटर में उनकी ऊंचाई के वर्ग से विभाजित करके की जाती है।

मोटापा अनुवांशिक, पर्यावरण और व्यवहारिक कारकों के संयोजन से हो सकता है। मोटापे में योगदान देने वाले कुछ कारकों में कैलोरी और अस्वास्थ्यकर वसा, एक ख़राब जीवन शैली, और कुछ चिकित्सीय स्थितियों और दवाओं में उच्च आहार शामिल हैं।

मोटापा कई स्वास्थ्य समस्याओं के बढ़ते जोखिम से जुड़ा है, जिसमें टाइप 2 मधुमेह, हृदय रोग, स्ट्रोक, उच्च रक्तचाप, स्लीप एपनिया, कुछ कैंसर और पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस शामिल हैं। मोटापे के उपचार में आहार और व्यायाम की आदतों में बदलाव, व्यवहार चिकित्सा, दवा या कुछ मामलों में सर्जरी शामिल हो सकती है।

मोटापा कैसे होता है ?

मोटापा एक जटिल स्थिति है जो आनुवंशिकी, पर्यावरण और जीवन शैली सहित विभिन्न कारकों के कारण हो सकती है। यहाँ मोटापे के कुछ सबसे सामान्य कारण दिए गए हैं:

जेनेटिक्स: शोध से पता चला है कि जेनेटिक्स मोटापे में भूमिका निभा सकते हैं। कुछ जीन प्रभावित कर सकते हैं कि शरीर वसा को कैसे संसाधित करता है और संग्रहीत करता है, साथ ही यह भूख और चयापचय को कैसे नियंत्रित करता है।

आहार: ऐसे आहार का सेवन करना जो कैलोरी, अस्वास्थ्यकर वसा और अतिरिक्त शक्कर से भरपूर हो, मोटापे में योगदान कर सकता है। ज्यादा मात्रा में खाना, बार-बार स्नैकिंग करना और फास्ट फूड और प्रोसेस्ड फूड खाने से भी वजन बढ़ सकता है।

शारीरिक निष्क्रियता: कम शारीरिक गतिविधि वाली एक गतिहीन जीवन शैली मोटापे में योगदान कर सकती है। जो लोग लंबे समय तक बैठते हैं, जैसे कि डेस्क जॉब पर और पर्याप्त व्यायाम नहीं करते हैं, उनमें वजन बढ़ने का खतरा होता है।

चिकित्सीय स्थितियाँ: कुछ चिकित्सीय स्थितियाँ, जैसे हाइपोथायरायडिज्म, कुशिंग सिंड्रोम और पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (PCOS), मोटापे में योगदान कर सकती हैं।

दवाएं: कुछ दवाएं, जैसे कि एंटीडिप्रेसेंट, एंटीसाइकोटिक्स और कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स, वजन बढ़ाने और मोटापे में योगदान कर सकती हैं।

कुल मिलाकर मोटापा अनुवांशिक, पर्यावरण और जीवनशैली कारकों के संयोजन के कारण हो सकता है। मोटापे और इससे जुड़े स्वास्थ्य जोखिमों को रोकने के लिए संतुलित आहार और नियमित शारीरिक गतिविधि के साथ एक स्वस्थ जीवन शैली बनाए रखना महत्वपूर्ण है।

मोटे होने के फायदे

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि मोटापे को आम तौर पर एक चिकित्सा स्थिति माना जाता है जो नकारात्मक स्वास्थ्य परिणामों के जोखिम को बढ़ा सकता है और यह आम तौर पर फायदे से जुड़ा नहीं होता है। हालांकि, कुछ अध्ययन हैं जो बताते हैं कि अधिक वजन या हल्का मोटा होना कुछ स्थितियों में कुछ फायदे प्रदान कर सकता है। अधिक वजन होने के कुछ संभावित लाभ यहां दिए गए हैं:

बोन डेंसिटी में वृद्धि: कुछ अध्ययनों में पाया गया है कि मोटे लोगों में बोन डेंसिटी अधिक हो सकती है, जो ऑस्टियोपोरोसिस और बोन फ्रैक्चर के जोखिम को कम कर सकता है।

अकाल के समय जीवित रहना: अतीत में, भोजन की कमी के समय, जिन लोगों के शरीर में वसा का भंडार अधिक था, उनके कम वजन वाले लोगों की तुलना में अधिक समय तक जीवित रहने की संभावना थी।

कुछ संक्रमणों से सुरक्षा: कुछ अध्ययनों ने सुझाव दिया है कि अधिक वजन या मोटापे से ग्रस्त होने से तपेदिक और निमोनिया जैसे कुछ संक्रमणों से सुरक्षा मिल सकती है।

हालांकि यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि ये संभावित लाभ मोटापे से जुड़े नकारात्मक स्वास्थ्य परिणामों से कम  हैं, जिनमें हृदय रोग, मधुमेह, कुछ कैंसर और अन्य पुरानी स्थितियों का खतरा बढ़ जाता है। एक संतुलित आहार और नियमित व्यायाम के माध्यम से एक स्वस्थ वजन बनाए रखना आम तौर पर समग्र स्वास्थ्य और तंदुरूस्ती के लिए अनुशंसित है।

मोटे होने के नुकसान

मोटापा एक ऐसी स्थिति है जिसके नकारात्मक स्वास्थ्य परिणामों की एक विस्तृत श्रृंखला हो सकती है। यहाँ मोटे होने के कुछ सबसे महत्वपूर्ण नुकसान हैं:

पुरानी बीमारियों का बढ़ता जोखिम: हृदय रोग, स्ट्रोक, मधुमेह, उच्च रक्तचाप, कुछ कैंसर और पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस सहित कई पुरानी बीमारियों के लिए मोटापा एक प्रमुख जोखिम कारक है।

जीवन की गुणवत्ता में कमी: जो लोग मोटे हैं उनके जीवन की गुणवत्ता कम हो सकती है, जिसमें गतिशीलता में कमी, दैनिक कार्यों को करने में कठिनाई, और अवसाद और अन्य मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं का खतरा बढ़ जाता है।

स्वास्थ्य देखभाल की लागत में वृद्धि: मोटापे से पुरानी बीमारियों, दवाओं और सर्जरी के लिए चिकित्सा उपचार सहित स्वास्थ्य देखभाल की लागत में वृद्धि हो सकती है।

जीवन प्रत्याशा में कमी: अध्ययनों से पता चला है कि पुरानी बीमारियों के बढ़ते जोखिम के कारण मोटापा जीवन प्रत्याशा को कई वर्षों तक कम कर सकता है।

सामाजिक कलंक और भेदभाव: जो लोग मोटे हैं उन्हें सामाजिक कलंक और भेदभाव का सामना करना पड़ सकता है, जो उनके मानसिक स्वास्थ्य और कल्याण पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है।

कुल मिलाकर मोटापे के नकारात्मक स्वास्थ्य परिणाम हो सकते हैं, जिनमें पुरानी बीमारियों का बढ़ता जोखिम, जीवन की गुणवत्ता में कमी, स्वास्थ्य देखभाल की लागत में वृद्धि और जीवन प्रत्याशा में कमी शामिल है। संतुलित आहार और नियमित व्यायाम के माध्यम से स्वस्थ वजन बनाए रखना समग्र स्वास्थ्य और तंदुरूस्ती के लिए महत्वपूर्ण है।

मोटापे से बचने के लिए अपनाएं ये उपाय

स्वस्थ खाने की आदतों और नियमित शारीरिक गतिविधि के संयोजन से स्वस्थ वजन बनाए रखा जा सकता है। मोटापे से बचने के कुछ उपाय इस प्रकार हैं:

स्वस्थ और संतुलित आहार लें: अपने आहार में भरपूर मात्रा में फल, सब्जियां, साबुत अनाज, प्रोटीन और स्वस्थ वसा शामिल करें। प्रसंस्कृत और उच्च कैलोरी वाले खाद्य पदार्थ, शक्करयुक्त पेय और अत्यधिक मात्रा में संतृप्त और ट्रांस वसा से बचें।

खाने पर नियंत्रण का अभ्यास करें: अपने आकार के प्रति सचेत रहें और ज़्यादा खाने से बचें। अपने हिस्से को नियंत्रित करने में मदद के लिए छोटी प्लेट और कटोरे का प्रयोग करें।

नियमित शारीरिक गतिविधि करें: प्रति सप्ताह कम से कम 150 मिनट की मध्यम-तीव्रता वाली एरोबिक गतिविधि या 75 मिनट की जोरदार-तीव्रता वाली एरोबिक गतिविधि करने का लक्ष्य रखें। प्रति सप्ताह कम से कम दो दिन शक्ति प्रशिक्षण अभ्यास शामिल करें।

  • एरोबिक गतिविधि : एक ऊर्जा के साथ शारीरिक व्यायाम का एक प्रकार होता है, जो श्वसन तंत्र के लिए सबसे अधिक लाभकारी होता है। यह एक ऐसी व्यायाम विधि है जिसमें लंबे समय तक समान आवेश वाले उच्च अंतःश्वसन और बाहरी श्वसन के साथ स्थायी गति में शारीरिक व्यायाम किया जाता है। इसमें हृदय और फेफड़ों के लिए एक स्वस्थ व्यायाम प्रणाली होती है, जो उन्हें अधिक सक्रिय और बलवान बनाती है। एरोबिक व्यायाम के उदाहरण शामिल हैं जोगिंग, डांसिंग, साइक्लिंग, श्विमिंग, एरोबिक गतिविधियां आदि। यह शारीरिक संभावनाओं को बढ़ाता है, मोटापे और दिल संबंधी समस्याओं से निपटने में मदद करता है और मानसिक स्वास्थ्य को भी सुधारता है।

गतिहीन व्यवहार को सीमित करें: आप बैठने में लगने वाले समय को कम करें और दिन भर चलने-फिरने में लगने वाले समय को बढ़ाएं। बैठने से बार-बार ब्रेक लें और शारीरिक गतिविधियों में शामिल हों, जैसे चलना, स्ट्रेचिंग करना या घर का काम करना।

पर्याप्त नींद लें: नींद की कमी वजन बढ़ाने में योगदान कर सकती है, इसलिए प्रति रात कम से कम 7-8 घंटे सोने का लक्ष्य रखें।

तनाव का प्रबंधन करें: तनाव अधिक खाने और वजन बढ़ने का कारण बन सकता है, इसलिए तनाव को प्रबंधित करने के लिए स्वस्थ तरीके खोजें, जैसे कि ध्यान, योग या दोस्तों और परिवार के साथ समय बिताना।

इन स्वस्थ आदतों को अपनाकर आप अपने मोटापे के जोखिम को कम कर सकते हैं और अपने समग्र स्वास्थ्य और कल्याण में सुधार कर सकते हैं।

यदि आप मोटापा के शिकार हो चुके हैं तो जानिए इसे कैसे दूर कर सकते हैं

मोटापे को दूर करने का सबसे प्रभावी तरीका एक स्वस्थ जीवन शैली अपनाना है जिसमें नियमित शारीरिक गतिविधि और संतुलित आहार शामिल हो। मोटापा दूर करने में मदद के लिए यहां कुछ उपाय दिए गए हैं:

एक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श करें: किसी भी वजन घटाने के कार्यक्रम को शुरू करने से पहले, एक स्वस्थ वजन घटाने के लक्ष्य को निर्धारित करने के लिए और वजन घटाने को प्रभावित करने वाली किसी भी चिकित्सा स्थिति पर चर्चा करने के लिए एक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श करें।

यथार्थवादी लक्ष्य निर्धारित करें: यथार्थवादी और प्राप्त करने योग्य वजन घटाने के लक्ष्य निर्धारित करें जो दीर्घकालिक रूप से टिकाऊ हों।

एक स्वस्थ खाने की योजना विकसित करें: एक स्वस्थ खाने की योजना में फलों, सब्जियों, साबुत अनाज, प्रोटीन और स्वस्थ वसा का संतुलित आहार शामिल होना चाहिए। प्रसंस्कृत और उच्च कैलोरी वाले खाद्य पदार्थ, शक्करयुक्त पेय, और अत्यधिक मात्रा में संतृप्त और ट्रांस वसा से बचें।

नियमित शारीरिक गतिविधि में संलग्न रहें: प्रति सप्ताह कम से कम 150 मिनट की मध्यम-तीव्रता वाली एरोबिक गतिविधि या 75 मिनट की जोरदार-तीव्रता वाली एरोबिक गतिविधि करने का लक्ष्य रखें। प्रति सप्ताह कम से कम दो दिन शक्ति प्रशिक्षण अभ्यास शामिल करें।

प्रगति की निगरानी करें: नियमित रूप से अपना वजन करके और भोजन और गतिविधि डायरी रखकर अपनी प्रगति पर नज़र रखें।

सपोर्ट की तलाश करें: प्रेरित और जवाबदेह बने रहने में मदद के लिए परिवार, दोस्तों या सहायता समूह से सहायता लें।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि वजन घटाना एक क्रमिक प्रक्रिया है जिसके लिए धैर्य, निरंतरता और समर्पण की आवश्यकता होती है। यह भी याद रखना महत्वपूर्ण है कि टिकाऊ वजन घटाने में स्वस्थ आदतों को अपनाना शामिल है जिन्हें समय के साथ बनाए रखा जा सकता है।

खबर को शेयर करें ...

1 thought on “क्या आप भी हैं मोटापे से परेशान? जानिए फायदे, नुकसान और इससे बचने के उपाय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *