गर्मी शुरू हो गयी है, गर्मी में घुमने के लिए नैनीताल है अच्छा टूरिस्ट प्लेस

नैनीताल भारत के उत्तरी राज्य उत्तराखंड में स्थित एक लोकप्रिय हिल स्टेशन है। यह समुद्र तल से 2,084 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है और चारों तरफ से हरी-भरी पहाड़ियों से घिरा हुआ है। शहर का नाम नैनी झील के नाम पर रखा गया है, जो इस क्षेत्र का एक प्रमुख पर्यटक आकर्षण है।

नैनीताल का मौसम साल भर सुखद रहता है। यह शहर अपनी प्राकृतिक सुंदरता, शांत वातावरण और ट्रेकिंग, बोटिंग और कैंपिंग जैसी गतिविधियों के लिए प्रसिद्ध है। नैनीताल के कुछ लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में नैनी झील, नैना देवी मंदिर, टिफिन टॉप, स्नो व्यू पॉइंट और भीमताल शामिल हैं।

नैनीताल में अपनी प्राकृतिक सुंदरता के अलावा एक समृद्ध ऐतिहासिक और सांस्कृतिक विरासत भी है। इसकी स्थापना अंग्रेजों द्वारा की गई थी, जो इसकी प्राकृतिक सुंदरता और हल्के जलवायु से आकर्षित हुए थे। आज, नैनीताल दुनिया भर के पर्यटकों के लिए एक लोकप्रिय गंतव्य है, जो यहां की प्राकृतिक सुंदरता का आनंद लेने और इसके शांत वातावरण में आराम करने के लिए आते हैं।

नैनीताल भारत के उत्तराखंड राज्य में स्थित एक लोकप्रिय हिल स्टेशन है। यह अपनी खूबसूरत झीलों, हरी-भरी पहाड़ियों और सुहावने मौसम के लिए जाना जाता है। नैनीताल में घूमने के लिए कुछ शीर्ष पर्यटन स्थल इस प्रकार हैं:

  • नैनी झील: यह नैनीताल का सबसे लोकप्रिय आकर्षण है। यह पहाड़ियों से घिरी एक खूबसूरत झील है और नौका विहार और पिकनिक के लिए एकदम सही है।
  • नैना देवी मंदिर: नैनी झील के उत्तरी छोर पर स्थित यह मंदिर देवी नैना देवी को समर्पित है। यह एक लोकप्रिय तीर्थ स्थल है और माना जाता है कि यह भक्तों की इच्छाओं को पूरा करता है।
  • टिफिन टॉप: डोरोथी की सीट के रूप में भी जाना जाता है, यह एक लोकप्रिय दृष्टिकोण है जो हिमालय और नैनीताल शहर के आश्चर्यजनक दृश्य प्रस्तुत करता है। ट्रेकिंग और हाइकिंग के लिए यह एक बेहतरीन जगह है।
  • नैना पीक: यह नैनीताल की सबसे ऊँची चोटी है और आसपास की पहाड़ियों और घाटियों के मनोरम दृश्य प्रस्तुत करती है। यह एक लोकप्रिय ट्रेकिंग स्थल है और साहसिक उत्साही लोगों के लिए आदर्श है।
  • स्नो व्यू पॉइंट: यह एक अन्य लोकप्रिय व्यू पॉइंट है जो हिमालय के आश्चर्यजनक दृश्य प्रस्तुत करता है। इस जगह का नाम इस बिंदु से दिखाई देने वाली बर्फ से ढकी चोटियों के नाम पर रखा गया है।
  • भीमताल झील: नैनीताल के पास स्थित यह एक और खूबसूरत झील है। यह हरी-भरी पहाड़ियों से घिरा हुआ है और नौका विहार और मछली पकड़ने के लिए एक लोकप्रिय स्थान है।
  • इको केव गार्डन: यह नैनीताल का एक लोकप्रिय पर्यटक आकर्षण है, जिसमें आपस में जुड़ी गुफाओं और संगीतमय फव्वारों की एक श्रृंखला है। यह बच्चों और परिवारों के लिए एक बेहतरीन जगह है।
  • मॉल रोड: यह नैनीताल का मुख्य खरीदारी और व्यावसायिक क्षेत्र है। यह दुकानों, रेस्तरां और कैफे के साथ पंक्तिबद्ध है, और टहलने और स्मृति चिन्ह के लिए खरीदारी करने के लिए एक शानदार जगह है।

कुल मिलाकर, नैनीताल एक सुंदर और शांत हिल स्टेशन है जो सभी उम्र के पर्यटकों के लिए कई प्रकार की गतिविधियों और आकर्षणों का केंद्र है।

खबर को शेयर करें ...

Related Posts

लालकुआँ-वाराणसी सिटी- लालकुआँ ग्रीष्मकालीन विशेष गाड़ी 29 अप्रैल से

रेल यात्रियों की सुविधा हेतु 05055 /05056 लालकुआँ-वाराणसी सिटी-लालकुआँ ग्रीष्मकालीन…

खबर को शेयर करें ...

(गज़ब) मियां-बीवी दोनों मिलकर देते थे चोरी की घटनाओं को अंजाम, फेरी के बहाने करते थे रेकी

लालकुआं क्षेत्र में चोरी/नकबजनी की घटनाओं में शामिल पति पत्नी…

खबर को शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

क्या ये आपने पढ़ा?

लालकुआँ-वाराणसी सिटी- लालकुआँ ग्रीष्मकालीन विशेष गाड़ी 29 अप्रैल से

लालकुआँ-वाराणसी सिटी- लालकुआँ ग्रीष्मकालीन विशेष गाड़ी 29 अप्रैल से

(गज़ब) मियां-बीवी दोनों मिलकर देते थे चोरी की घटनाओं को अंजाम, फेरी के बहाने करते थे रेकी

(गज़ब) मियां-बीवी दोनों मिलकर देते थे चोरी की घटनाओं को अंजाम, फेरी के बहाने करते थे रेकी

ईवीएम मशीनों को रखा गया स्ट्रांग रूम में, ऐसी है चाक-चौबंद सुरक्षा

ईवीएम मशीनों को रखा गया स्ट्रांग रूम में, ऐसी है चाक-चौबंद सुरक्षा

लालकुआं-हावड़ा ग्रीष्मकालीन विषेष गाड़ी के समय में हुआ बदलाव

लालकुआं-हावड़ा ग्रीष्मकालीन विषेष गाड़ी के समय में हुआ बदलाव

जैव विविधता से भरपूर उत्तराखंड में पक्षियों का एक अलग संसार बसता है- राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि)

जैव विविधता से भरपूर उत्तराखंड में पक्षियों का एक अलग संसार बसता है- राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि)

जंगल में लगने वाली आग पर काबू पाने के लिए राजस्व पुलिस के साथ महिला मंगल दल, युवक मंगल दल, स्वयं सहायता समूहों एवं आपदा मित्रों का भी रहेगा सहयोग

जंगल में लगने वाली आग पर काबू पाने के लिए राजस्व पुलिस के साथ महिला मंगल दल, युवक मंगल दल, स्वयं सहायता समूहों एवं आपदा मित्रों का भी रहेगा सहयोग