दुकान के स्नैक्स भूल जायेंगे बच्चे, घर पर बनाकर खिलाएं केले के कुरकुरे और टेस्टी चिप्स

बहुत से बच्चे केले के चिप्स का स्वाद और कुरकुरापन पसंद करते हैं। केले के चिप्स कई अन्य स्नैक्स की तुलना में एक स्वस्थ स्नैक विकल्प हैं, क्योंकि इनमें विटामिन, खनिज और फाइबर होते हैं, और अतिरिक्त शर्करा या कृत्रिम स्वादों से भरे नहीं होते हैं। हालांकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि केले के चिप्स अभी भी एक स्नैक फूड हैं और संतुलित आहार के हिस्से के रूप में इसका सेवन कम मात्रा में किया जाना चाहिए। इसके अतिरिक्त, कम से कम तेल और नमक के साथ बने केले के चिप्स का चयन करना सबसे अच्छा है, क्योंकि इन सामग्रियों की अत्यधिक मात्रा अस्वास्थ्यकर हो सकती है। कुरकुरे और स्वादिष्ट केले के चिप्स बनाना अपेक्षाकृत सरल है और इसके लिए केवल कुछ सामग्री की आवश्यकता होती है। यहां स्टेप वाइज स्टेप विधि दी गई है:

सामग्री :

  • कच्चे हरे केले (मोटे छिलके वाले और ज्यादा पके नहीं)
  • तलने के लिए तेल
  • नमक
  • मिर्च पाउडर (वैकल्पिक)

विधि :

  • कच्चे हरे केलों को छील लें और उन्हें स्लाइसर या चाकू से पतला-पतला काट लें। स्लाइस समान होने चाहिए और बहुत मोटे नहीं होने चाहिए, लगभग 1-2 मिमी मोटे।
  • केले के टुकड़ों को ठंडे पानी में 10-15 मिनट के लिए भिगो दें। यह केले से अतिरिक्त स्टार्च को हटाने और उन्हें खस्ता बनाने में मदद करेगा।
  • पानी निथारें और केले के स्लाइस को किचन टॉवल या पेपर टॉवल से थपथपाकर सुखाएं।
  • एक गहरे फ्राइंग पैन या कड़ाही में मध्यम आँच पर तेल गरम करें। तेल गर्म होना चाहिए लेकिन धूम्रपान नहीं करना चाहिए।
  • एक बार में तेल में कुछ केले के स्लाइस डालें, ध्यान रहे कि पैन बहुत अधिक न भर जाए। चिप्स को सुनहरा भूरा और कुरकुरा होने तक तलें, एकसमान तलने के लिए बीच-बीच में हिलाते रहें।
  • एक बार चिप्स पक जाने के बाद, उन्हें एक खांचेदार चम्मच का उपयोग करके तेल से निकालें और अतिरिक्त तेल को सोखने के लिए कागज़ के तौलिये से ढकी हुई प्लेट में स्थानांतरित करें।
  • चिप्स के ऊपर थोड़ा नमक और मिर्च पाउडर (यदि वांछित हो) छिड़कें जबकि वे अभी भी गर्म हैं।
  • चिप्स को पूरी तरह से ठंडा होने दें और उन्हें एक एयरटाइट कंटेनर में स्टोर करें।
  • अपने कुरकुरे और स्वादिष्ट केले के चिप्स का आनंद लें!
खबर को शेयर करें ...

Related Posts

लालकुआँ-वाराणसी सिटी- लालकुआँ ग्रीष्मकालीन विशेष गाड़ी 29 अप्रैल से

रेल यात्रियों की सुविधा हेतु 05055 /05056 लालकुआँ-वाराणसी सिटी-लालकुआँ ग्रीष्मकालीन…

खबर को शेयर करें ...

(गज़ब) मियां-बीवी दोनों मिलकर देते थे चोरी की घटनाओं को अंजाम, फेरी के बहाने करते थे रेकी

लालकुआं क्षेत्र में चोरी/नकबजनी की घटनाओं में शामिल पति पत्नी…

खबर को शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

क्या ये आपने पढ़ा?

लालकुआँ-वाराणसी सिटी- लालकुआँ ग्रीष्मकालीन विशेष गाड़ी 29 अप्रैल से

लालकुआँ-वाराणसी सिटी- लालकुआँ ग्रीष्मकालीन विशेष गाड़ी 29 अप्रैल से

(गज़ब) मियां-बीवी दोनों मिलकर देते थे चोरी की घटनाओं को अंजाम, फेरी के बहाने करते थे रेकी

(गज़ब) मियां-बीवी दोनों मिलकर देते थे चोरी की घटनाओं को अंजाम, फेरी के बहाने करते थे रेकी

ईवीएम मशीनों को रखा गया स्ट्रांग रूम में, ऐसी है चाक-चौबंद सुरक्षा

ईवीएम मशीनों को रखा गया स्ट्रांग रूम में, ऐसी है चाक-चौबंद सुरक्षा

लालकुआं-हावड़ा ग्रीष्मकालीन विषेष गाड़ी के समय में हुआ बदलाव

लालकुआं-हावड़ा ग्रीष्मकालीन विषेष गाड़ी के समय में हुआ बदलाव

जैव विविधता से भरपूर उत्तराखंड में पक्षियों का एक अलग संसार बसता है- राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि)

जैव विविधता से भरपूर उत्तराखंड में पक्षियों का एक अलग संसार बसता है- राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि)

जंगल में लगने वाली आग पर काबू पाने के लिए राजस्व पुलिस के साथ महिला मंगल दल, युवक मंगल दल, स्वयं सहायता समूहों एवं आपदा मित्रों का भी रहेगा सहयोग

जंगल में लगने वाली आग पर काबू पाने के लिए राजस्व पुलिस के साथ महिला मंगल दल, युवक मंगल दल, स्वयं सहायता समूहों एवं आपदा मित्रों का भी रहेगा सहयोग