बच्चों को फ़ोन देते समय बनी रहती है मन में टेंशन, ऑन कीजिये किड स्पेस, जानिए सेटिंग और इसके फायदे

[tta_listen_btn]

फोन में “किड स्पेस” आम तौर पर एक ऐसी सुविधा या एप्लिकेशन है जो बच्चों को डिवाइस का उपयोग करने के लिए प्रतिबंधित और सुरक्षित वातावरण प्रदान करता है। किड स्पेस को आयु-उपयुक्त सामग्री की पेशकश करने, कुछ ऐप्स या सुविधाओं तक पहुंच सीमित करने और माता-पिता के नियंत्रण प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

ऐसे कई तरीके हैं जिनसे आप फ़ोन पर किड स्पेस बना सकते हैं:

बिल्ट-इन पेरेंटल कंट्रोल फीचर (Built-in parental control features) : कुछ स्मार्टफोन में बिल्ट-इन पैरेंटल कंट्रोल सेटिंग्स होती हैं जो आपको बच्चों के लिए एक अलग प्रोफाइल या स्पेस बनाने की अनुमति देती हैं। ये सेटिंग्स आपको कुछ ऐप्स तक पहुंच प्रतिबंधित करने, समय सीमा निर्धारित करने और सामग्री को नियंत्रित करने में सक्षम बनाती हैं।

तृतीय-पक्ष ऐप्स (Third Party Apps): ऐप स्टोर पर कई तृतीय-पक्ष एप्लिकेशन उपलब्ध हैं जो फ़ोन पर बच्चों के लिए स्थान बनाने में विशेषज्ञ हैं। ये ऐप्स सामग्री फ़िल्टरिंग, स्क्रीन समय प्रबंधन और आयु-उपयुक्त ऐप अनुशंसाओं जैसी सुविधाएं प्रदान करते हैं।

समर्पित बच्चे के अनुकूल उपकरण (Dedicated kid-friendly devices): वैकल्पिक रूप से, आप समर्पित बच्चे के अनुकूल उपकरणों का विकल्प चुन सकते हैं जो पूर्व-स्थापित बच्चे के स्थान के साथ आते हैं या विशेष रूप से बच्चों के लिए डिज़ाइन किए गए विशेष इंटरफेस प्रदान करते हैं। ये उपकरण अक्सर अधिक नियंत्रित और आयु-उपयुक्त वातावरण प्रदान करते हैं।

इसे भी पढ़िए : नया फ़ोन खरीदने से पहले जरुर जान लें ये अहम् बातें, खरीदने में होगी आसानी

फ़ोन पर एक बच्चे के लिए स्थान सेट करते समय, उन विशिष्ट विशेषताओं पर विचार करना आवश्यक है जिन्हें आप नियंत्रित करना चाहते हैं और सामग्री की आयु उपयुक्तता। इसके अतिरिक्त, बच्चों की ऑनलाइन सुरक्षा के लिए माता-पिता की देखरेख और ज़िम्मेदार डिवाइस के उपयोग के बारे में बच्चों के साथ संचार महत्वपूर्ण है।

फोन पर किड स्पेस फीचर या ऐप माता-पिता और बच्चों दोनों के लिए कई लाभ प्रदान करता है। यहाँ कुछ फायदे दिए गए हैं:

उम्र के हिसाब से सामग्री (Age-appropriate content): किड स्पेस यह सुनिश्चित करता है कि बच्चों की उस सामग्री तक पहुँच हो जो उनके आयु वर्ग के लिए उपयुक्त हो। इसमें ऐप, गेम, वीडियो और शैक्षिक सामग्री शामिल हैं जिन्हें एक सुरक्षित और शैक्षिक अनुभव प्रदान करने के लिए क्यूरेट और फ़िल्टर किया गया है।

माता-पिता का नियंत्रण (Parental control) : बच्चे के स्थान माता-पिता को प्रतिबंध लगाने और डिवाइस के उपयोग के विभिन्न पहलुओं को नियंत्रित करने की अनुमति देते हैं। इसमें स्क्रीन समय सीमा को प्रबंधित करना, विशिष्ट ऐप्स या वेबसाइटों तक पहुंच को अवरुद्ध करना या सीमित करना और ऑनलाइन गतिविधियों की निगरानी करना शामिल है।

यह भी पढ़िए : बच्चों की खांसी से हर कोई हो जाता है परेशान, जानिए कारण और घरेलु समाधान

सुरक्षित ब्राउज़िंग अनुभव (Safe browsing experience) : किड स्पेस आमतौर पर अनुचित वेबसाइटों, विज्ञापनों और अन्य ऑनलाइन सामग्री को ब्लॉक या फ़िल्टर करके एक सुरक्षित ब्राउज़िंग वातावरण प्रदान करता है जो बच्चों के लिए उपयुक्त नहीं हो सकता है।

शैक्षिक अवसर (Educational opportunities) : कई बच्चे स्थान शैक्षिक ऐप्स, इंटरएक्टिव गेम और सीखने के संसाधन प्रदान करते हैं जो बच्चे के ज्ञान और कौशल को बढ़ा सकते हैं। ये विशेषताएं मज़ेदार और आकर्षक तरीके से सीखने को बढ़ावा देती हैं।

माता-पिता के लिए मन की शांति (Peace of mind for parents) : किड्स स्पेस माता-पिता को अपने बच्चों के डिवाइस के उपयोग के लिए एक नियंत्रित वातावरण प्रदान करके मानसिक शांति प्रदान करते हैं। माता-पिता आश्वस्त महसूस कर सकते हैं कि उनके बच्चे उचित सामग्री तक पहुंच बना रहे हैं और संभावित ऑनलाइन जोखिमों से सुरक्षित हैं।

अनुकूलन योग्य सेटिंग्स (Customizable settings) : किड स्पेस सुविधाएँ अक्सर माता-पिता को अपने बच्चे की उम्र, रुचियों और व्यक्तिगत आवश्यकताओं के आधार पर सेटिंग्स को अनुकूलित करने की अनुमति देती हैं। यह लचीलापन सुनिश्चित करता है कि अनुभव प्रत्येक बच्चे की आवश्यकताओं के अनुरूप हो।

इसे भी जानिए : सोने की लंका तो आपने सुनी होगी, लेकिंन भरपूर सोना भी किसी खजाने से कम नहीं

जिम्मेदार उपकरण उपयोग को प्रोत्साहित करता है (Encourages responsible device usage) : बच्चे के स्थान का उपयोग करके, बच्चे कम उम्र से ही जिम्मेदार उपकरण उपयोग करना सीखते हैं। वे अपने माता-पिता द्वारा निर्धारित सीमाओं और सीमाओं को समझते हैं और स्वस्थ डिजिटल आदतें विकसित करते हैं।

आकस्मिक खरीद या अनधिकृत पहुंच का कम जोखिम (Reduced risk of accidental purchases or unauthorized access) : किड स्पेस में आमतौर पर ऐप या इन-ऐप खरीदारी की आकस्मिक खरीदारी को रोकने के लिए सुरक्षा उपाय होते हैं। वे सेटिंग्स या सुविधाओं तक पहुंच को भी सीमित करते हैं जो संभावित रूप से अनपेक्षित कार्रवाइयों का कारण बन सकती हैं।

कुल मिलाकर, किड स्पेस फ़ीचर्स या ऐप बच्चों के लिए एक सुरक्षित और अधिक नियंत्रित डिजिटल अनुभव प्रदान करते हैं, माता-पिता को मन की शांति देते हुए उनकी शिक्षा, विकास और ज़िम्मेदार उपकरण उपयोग को बढ़ावा देते हैं।

ऐसे करें सेटिंग

आपके द्वारा उपयोग किए जा रहे विशिष्ट डिवाइस या ऐप के आधार पर किड स्पेस या माता-पिता के नियंत्रण का उपयोग करने की प्रक्रिया भिन्न हो सकती है। हालांकि, इन सुविधाओं को सेट अप करने और उपयोग करने के लिए निम्न स्टेप अपनाये जा सकते हैं :

अंतर्निहित अभिभावकीय नियंत्रण (Built-in Parental Controls) :

  • अपने फोन या टैबलेट पर सेटिंग मेनू पर जाएं।
  • माता-पिता के नियंत्रण या बाल सुरक्षा से संबंधित अनुभाग देखें।
  • एक अलग उपयोगकर्ता प्रोफ़ाइल बनाएं या किड स्पेस सुविधा सक्षम करें।
  • अभिभावकीय नियंत्रण सेटिंग्स की सुरक्षा के लिए एक पिन या पासवर्ड सेट करें।
  • प्रतिबंधों को अनुकूलित करने के लिए उपलब्ध विकल्पों का अन्वेषण करें, जैसे समय सीमा, ऐप एक्सेस, सामग्री फ़िल्टरिंग और इन-ऐप खरीदारी।
  • अपने बच्चे की उम्र और विशिष्ट आवश्यकताओं के अनुसार सेटिंग्स समायोजित करें।
  • जैसे-जैसे आपका बच्चा बड़ा होता है, सेटिंग्स की नियमित रूप से समीक्षा करें और उन्हें अपडेट करें।

तृतीय-पक्ष ऐप्स (Third Party Apps):

  • अपने डिवाइस पर ऐप स्टोर पर जाएं।
  • विशेष रूप से बच्चों के लिए डिज़ाइन किए गए माता-पिता के नियंत्रण वाले ऐप्स खोजें।
  • समीक्षाएँ पढ़ें और एक प्रतिष्ठित ऐप चुनें जो आपकी ज़रूरतों को पूरा करता हो।
  • अपने डिवाइस पर ऐप डाउनलोड और इंस्टॉल करें।
  • चाइल्ड स्पेस सेट करने या चाइल्ड प्रोफाइल बनाने के लिए ऐप के निर्देशों का पालन करें।
  • अपनी प्राथमिकताओं के आधार पर सेटिंग्स को अनुकूलित करें, जैसे सामग्री फ़िल्टरिंग, समय सीमा और ऐप प्रतिबंध।
  • ऐप की सेटिंग को सुरक्षित रखने के लिए एक पिन या पासवर्ड सेट करें।

याद रखें, आपके डिवाइस और आपके द्वारा चुने गए माता-पिता के नियंत्रण समाधान के आधार पर विशिष्ट चरण और विकल्प भिन्न हो सकते हैं। विस्तृत निर्देशों के लिए अपने विशिष्ट उपकरण या ऐप के लिए उपयोगकर्ता पुस्तिका या ऑनलाइन दस्तावेज़ देखने की अनुशंसा की जाती है।

इसे भी जानिए : मोबाइल में स्पेस हो गया ख़त्म, हो रही है प्रॉब्लम, तो ये रहा सोल्यूशन

इसके अतिरिक्त, डिवाइस के उपयोग के संबंध में नियमों और अपेक्षाओं के बारे में अपने बच्चे के साथ खुला संचार करना आवश्यक है। माता-पिता के नियंत्रण का उपयोग आपके बच्चे की डिजिटल गतिविधियों के मार्गदर्शन और पर्यवेक्षण के लिए एक उपकरण के रूप में किया जाना चाहिए, लेकिन चल रही बातचीत और मार्गदर्शन उनकी समझ और प्रौद्योगिकी के जिम्मेदार उपयोग के लिए महत्वपूर्ण हैं।

खबर को शेयर करें ...
  • Related Posts

    8वीं और 10वीं पास युवाओं को मिलेगा ITI में प्रवेश का अवसर, यहाँ करें ऑनलाइन अप्लाई, ये है अंतिम तारीख

    आठवीं और दसवीं पास युवाओं के लिए सुनहरा अवसर है,…

    खबर को शेयर करें ...

    राष्ट्रीय स्तर की ये परीक्षा हुई रद्द, होगी दोबारा, मामले की सी.बी.आई. करेगी जांच

    राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (एनटीए) ने 18 जून, 2024 को देश…

    खबर को शेयर करें ...

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    क्या ये आपने पढ़ा?

    8वीं और 10वीं पास युवाओं को मिलेगा ITI में प्रवेश का अवसर, यहाँ करें ऑनलाइन अप्लाई, ये है अंतिम तारीख

    8वीं और 10वीं पास युवाओं को मिलेगा ITI में प्रवेश का अवसर, यहाँ करें ऑनलाइन अप्लाई, ये है अंतिम तारीख

    राष्ट्रीय स्तर की ये परीक्षा हुई रद्द, होगी दोबारा, मामले की सी.बी.आई. करेगी जांच

    राष्ट्रीय स्तर की ये परीक्षा हुई रद्द, होगी दोबारा, मामले की सी.बी.आई. करेगी जांच

    घर से 220 किलो गौमांस के साथ गौकशी उपकरण बरामद। एक ही परिवार के 4 आरोपी आए गिरफ्त में, ननद, देवर, भाभी हैं शामिल।

    घर से 220 किलो गौमांस के साथ गौकशी उपकरण बरामद। एक ही परिवार के 4 आरोपी आए गिरफ्त में, ननद, देवर, भाभी हैं शामिल।

    स्विफ्ट कार लगभग 200 मीटर गहरी खाई में गिरी और पहाड़ी पर अटक गयी, फिर क्रेन के भी हो गए ब्रेक फेल। एसडीआरएफ ने किया रेस्क्यू

    स्विफ्ट कार लगभग 200 मीटर गहरी खाई में गिरी और पहाड़ी पर अटक गयी, फिर क्रेन के भी हो गए ब्रेक फेल। एसडीआरएफ ने किया रेस्क्यू

    सोशल मीडिया पर लाइक, कमेंट और व्यूवर्स बढ़ाने के चक्कर में यूट्यूबर ने किया ऐसा काम, फिर मांगनी पड़ी माफ़ी

    सोशल मीडिया पर लाइक, कमेंट और व्यूवर्स बढ़ाने के चक्कर में यूट्यूबर ने किया ऐसा काम, फिर मांगनी पड़ी माफ़ी

    (दीजिये शुभकामनायें) पन्त विश्वविद्यालय के इन 4 विद्यार्थियों का हुआ नामी कम्पनी में चयन, मिला ये पैकेज

    (दीजिये शुभकामनायें) पन्त विश्वविद्यालय के इन 4 विद्यार्थियों का हुआ नामी कम्पनी में चयन, मिला ये पैकेज