Ohh No… चेहरे पर झाइयां और पिंपल्स, अपनाएं ये सरल घरेलु टिप्स

0

चेहरे पर झाइयां और पिंपल्स होना आम बात होती है । हम सभी झाइयों और पिंपल्स से कभी न कभी प्रभावित हुए ही हैं।

पिंपल्स, जिसे मुंहासे के रूप में भी जाना जाता है, एक सामान्य त्वचा की स्थिति है जो विभिन्न प्रकार के कारकों के कारण हो सकती है, जिनमें हार्मोनल परिवर्तन, आनुवंशिकी, तनाव और कुछ दवाएं शामिल हैं। वे त्वचा पर ब्लैकहेड्स, व्हाइटहेड्स या लाल, सूजन वाले धब्बों के रूप में दिखाई दे सकते हैं। पिंपल्स ज्यादातर चेहरे, गर्दन, छाती और पीठ पर पाए जाते हैं।

दूसरी ओर झाईयां, त्वचा पर छोटे भूरे रंग के धब्बे होते हैं जो मेलेनिन के उत्पादन में वृद्धि के कारण होते हैं, वर्णक जो त्वचा को उसका रंग देता है। गोरी त्वचा वाले लोगों में झाईयां अधिक आम हैं और आमतौर पर हानिरहित होती हैं। वे सबसे अधिक चेहरे, बाहों और कंधों पर पाए जाते हैं।

चेहरे पर मुंहासों का इलाज बिना डॉक्टर कि पर्ची के मिलने वाले उत्पादों से किया जा सकता है जिनमें बेंज़ोयल पेरोक्साइड या सैलिसिलिक एसिड होता है। यह भी महत्वपूर्ण है कि पिंपल्स को निकालने या निचोड़ने से बचें, क्योंकि इससे निशान पड़ सकते हैं और आगे ब्रेकआउट हो सकते हैं।

झाइयां आमतौर पर हानिरहित होती हैं और उपचार की आवश्यकता नहीं होती है, लेकिन आगे और अधिक झाईयों के विकास को रोकने के लिए अपनी त्वचा को धूप से बचाना महत्वपूर्ण है। आप इसे सनस्क्रीन लगाकर, कपड़ों से ढक कर, और धूप के दौरान छाया में रहकर कर सकते हैं।

चेहरे पर झाईयों और पिंपल्स से निपटना चुनौतीपूर्ण हो सकता है, लेकिन कुछ सरल और प्राकृतिक उपचार हैं जिन्हें आप इन स्थितियों को प्रबंधित करने में मदद के लिए घर पर आजमा सकते हैं:

झाइयों के लिए:

नींबू का रस: ताजे नींबू के रस को रुई की मदद से झाईयों पर लगाएं और 10-15 मिनट तक सूखने दें और फिर धो लें। नींबू के रस में साइट्रिक एसिड होता है, जो त्वचा को हल्का करने और झाईयों को कम करने में मदद कर सकता है।

एलोवेरा: झाइयों पर ताजा एलोवेरा जेल लगाएं और इसे धोने से पहले 15-20 मिनट के लिए छोड़ दें। एलोवेरा में नेचुरल स्किन लाइटनिंग गुण होते हैं और समय के साथ झाईयों को कम करने में मदद कर सकते हैं।

छाछ: रुई की मदद से झाइयों पर छाछ लगाएं और इसे धोने से पहले 15-20 मिनट के लिए छोड़ दें। छाछ में लैक्टिक एसिड होता है, जो त्वचा को एक्सफोलिएट करने और झाईयों को कम करने में मदद कर सकता है।

पिंपल्स के लिए:

टी ट्री ऑयल: टी ट्री ऑयल की थोड़ी सी मात्रा रुई के फाहे से मुंहासों पर लगाएं और रात भर के लिए छोड़ दें। चाय के पेड़ के तेल में जीवाणुरोधी गुण होते हैं जो सूजन को कम करने और पिंपल्स पैदा करने वाले बैक्टीरिया को मारने में मदद कर सकते हैं।

शहद: थोड़े से कच्चे शहद को पिंपल्स पर लगाएं और इसे धोने से पहले 15-20 मिनट के लिए छोड़ दें। शहद में जीवाणुरोधी गुण होते हैं और सूजन और लाली को कम करने में मदद कर सकते हैं।

सेब का सिरका: सेब के सिरके और पानी को बराबर मात्रा में मिलाकर रुई की मदद से मुहांसों पर लगाएं। इसे धोने से पहले 10-15 मिनट के लिए लगा रहने दें। सेब के सिरके में प्राकृतिक अम्ल होते हैं जो त्वचा को एक्सफोलिएट करने और सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि यदि आपके पास गंभीर मुँहासे हैं या त्वचा की किसी भी प्रतिक्रिया का अनुभव कर रहे हैं, तो पेशेवर सलाह और उपचार के लिए त्वचा विशेषज्ञ से परामर्श करना सबसे अच्छा है।

खबर को शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *