एआई तकनीक से युक्त ‘राजभवन मैत्री चैटबॉट’ की हुई शुरुआत, मिलेंगे ये फायदे

राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) ने शनिवार को राजभवन नैनीताल में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) तकनीक के प्रयोग से निर्मित ‘राजभवन मैत्री चैटबॉट’ का लोकार्पण किया। गौरतलब है कि राज्यपाल ने अपने पांच प्रमुख मिशन में एआई को महत्वपूर्ण स्थान दिया है। इसी क्रम में मैत्री चैटबॉट एआई तकनीक से युक्त एक अभिनव प्रयास है जिसमें राज्यपाल के विभिन्न कार्यक्रमों एवं गतिविधियों की जानकारी उपलब्ध रहेगी।

उपयोगकर्ता प्रश्नोत्तरी के माध्यम से अपनी जिज्ञासाओं का समाधान पा सकेंगे और विभिन्न जानकारियां प्राप्त कर सकते हैं। यह चैटबॉट राजभवन की वेबसाइट पर विभिन्न भाषाओं में उपलब्ध रहेगी। इस अवसर पर मैत्री चैटबॉट के निर्माणकर्ता श्री सिद्धार्थ माधव ने चैटबॉट के निर्माण एवं उपयोग संबंधी जानकारियां विस्तृत रूप से प्रस्तुत की।

राज्यपाल ने कहा कि ‘मैत्री’ केवल एक तकनीकी उपकरण नहीं है, बल्कि यह एक माध्यम है जिसके द्वारा हम नवाचार को साकार करते हुए समाज के विभिन्न वर्गों तक ज्ञान और सहायता पहुंचा सकते हैं। उन्होंने कहा कि इस चैटबॉट के माध्यम से हमारी भाषा और संस्कृति का सम्मान करते हुए उपयोगकर्ता अपनी जिज्ञासाओं का समाधान पा सकेंगे और विभिन्न जानकारी प्राप्त कर सकेंगे।

राज्यपाल ने कहा कि उत्तराखण्ड में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है। यहां के युवा नई टेक्नोलॉजी को आत्मसात कर रहे हैं। उन्होंने आह्वान किया कि हमें अपनी क्षमता को पहचान कर राष्ट्र के विकास में योगदान देना होगा। उन्होंने कहा कि टेक्नोलॉजी के अधिक से अधिक प्रयोग से 21वीं सदी का तीसरा दशक उत्तराखण्ड का दशक होगा जिसमें एआई की भूमिका महत्वपूर्ण होगी।

राज्यपाल ने कहा कि 2047 तक का समय एक ऐसा कालखंड है जिसमें एक मजबूत, आत्मनिर्भर देश के निर्माण में हमारी अमृत पीढ़ी की भूमिका अहम होगी। उन्होंने कहा कि विकास की यात्रा में और मानवता के कल्याण में टेक्नोलॉजी का सर्वोत्तम उपयोग बहुत सहायक सिद्ध होगा।

राज्यपाल ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत युवाओं में वैज्ञानिक सोच पैदा करने के साथ-साथ जिज्ञासा-आधारित शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए शिक्षा में दूरगामी सुधार भी लागू किए हैं। उन्होंने कहा कि वर्तमान में युवाओं में रिसर्च और इनोवेशन को बढ़ावा देने के लिए लगातार काम हो रहा है। उन्होंने कहा कि 2047 तक विकसित भारत के संकल्प को साकार करने में विज्ञान और तकनीक की अहम भूमिका होगी।

खबर को शेयर करें ...

Related Posts

(दीजिये शुभकामनायें) पन्त विश्वविद्यालय के इन 4 विद्यार्थियों का हुआ नामी कम्पनी में चयन, मिला ये पैकेज

पन्तनगर विश्वविद्यालय के सेवायोजन परामर्ष निदेषालय के माध्यम से मैसर्स…

खबर को शेयर करें ...

2014 में सूख गया था ज्ञान वृक्ष, वैज्ञानिक तरीके से किया पुनर्जीवित, वो भी मूल स्थान पर, यहाँ पहुंचे राज्यपाल

राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह(से नि) ने आज अल्मोड़ा के…

खबर को शेयर करें ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

क्या ये आपने पढ़ा?

(दीजिये शुभकामनायें) पन्त विश्वविद्यालय के इन 4 विद्यार्थियों का हुआ नामी कम्पनी में चयन, मिला ये पैकेज

(दीजिये शुभकामनायें) पन्त विश्वविद्यालय के इन 4 विद्यार्थियों का हुआ नामी कम्पनी में चयन, मिला ये पैकेज

2014 में सूख गया था ज्ञान वृक्ष, वैज्ञानिक तरीके से किया पुनर्जीवित, वो भी मूल स्थान पर, यहाँ पहुंचे राज्यपाल

2014 में सूख गया था ज्ञान वृक्ष, वैज्ञानिक तरीके से किया पुनर्जीवित, वो भी मूल स्थान पर, यहाँ पहुंचे राज्यपाल

रील बनाने के चक्कर में अपनी और दूसरों की जान जोखिम में न डालें। देखिये विडियो …

रील बनाने के चक्कर में अपनी और दूसरों की जान जोखिम में न डालें। देखिये विडियो …

पन्त विश्वविद्यालय में निकली कुल 259 पदों पर भर्तियाँ, ऐसे करें अंतिम तारीख से पहले आवेदन

पन्त विश्वविद्यालय में निकली कुल 259 पदों पर भर्तियाँ, ऐसे करें अंतिम तारीख से पहले आवेदन

आज मिल सकती है गर्मी से राहत, छाएगी काली घटा और पड़ेगी बारिश की फुहार

आज मिल सकती है गर्मी से राहत, छाएगी काली घटा और पड़ेगी बारिश की फुहार

रीठासाहिब जा रहे श्रद्धालुओं तथा स्थानीय बारातियों में हुई थी मारपीट, अब दूसरा अभियुक्त संजय सिंह फर्त्याल उर्फ अलबेला हुआ गिरफ्तार

रीठासाहिब जा रहे श्रद्धालुओं तथा स्थानीय बारातियों में हुई थी मारपीट, अब दूसरा अभियुक्त संजय सिंह फर्त्याल उर्फ अलबेला हुआ गिरफ्तार