जानिए Good Friday के बारे में, ये क्यों मनाया जाता है और इससे जुड़ी कुछ बातें

गुड फ्राइडे (Good Friday) ईसाई धर्म का महत्वपूर्ण त्योहार है जो प्रतिवर्ष ईसाई समुदाय द्वारा मनाया जाता है। यह पवित्र दिन यीशु मसीह की क्रूस पर क्रूसीफाइड होने की स्मृति में मनाया जाता है। गुड फ्राइडे का नाम ‘गुड’ यानी ‘अच्छा’ या ‘महान’ का पर्याय है, जो इस दिन की महत्वता को दर्शाता है।

इस दिन को इसलिए मनाया जाता है क्योंकि ईसा मसीह को इस दिन क्रूस पर छद्म किया गया था यानि कि सूली पर चढ़ाया गया था। इस दिन को “गुड फ्राइडे” के रूप में जाना जाता है क्योंकि ईसाई धर्म में “गुड” शब्द का उपयोग “ग्रेट” या “अच्छा” का अर्थ भी होता है, जिसका प्रयोग ईसा मसीह के प्रेम और उनके बलिदान के श्रद्धांजलि में किया जाता है। इस वर्ष 24 मार्च 2024 को गुड फ्राइडे है।

गुड फ्राइडे के त्योहार को अंग्रेजी कलीसिया में ‘गुड फ्राइडे’ के रूप में जाना जाता है, जबकि यह फ्रांसीसी और नेदरलैंडी भाषाओं में ‘क्रूस’ या ‘क्रूस’ के रूप में जाना जाता है। गुड फ्राइडे के त्योहार को ईसाई धर्म का सबसे प्रमुख दिन माना जाता है, जो यीशु की मृत्यु और उनके पुनरुत्थान के समय को स्मरण करता है।

गुड फ्राइडे का मनाना लोगों को याद दिलाता है कि ईसा मसीह ने अपने जीवन की आहुति दी ताकि मानवता को पापों से मुक्ति मिल सके। यह दिन आत्मविश्वास, संयम, परमात्मा के प्रति श्रद्धा, और प्रेम के महत्व को समझाता है। इसलिए, लोग इस दिन को ध्यान, प्रार्थना, और सेवा के साथ मनाते हैं, और ईसा मसीह के उनके द्वारा बताए गए संदेशों का अनुसरण करते हैं।

यह त्योहार विश्वभर में लोगों के द्वारा मनाया जाता है, खासकर वे जो ईसाई धर्म का पालन करते हैं। गुड फ्राइडे की शुभकामनाएं और धर्मिक उत्साह के साथ, लोग इस दिन को यीशु के प्रेम, शांति, और समर्पण की याद में विशेष रूप से मनाते हैं।

गुड फ्राइडे के बारे में और अधिक जानकारी देने के लिए, यहाँ कुछ महत्वपूर्ण तथ्य हैं:

  1. ईसा मसीह की स्थिति: गुड फ्राइडे का त्योहार ईसा मसीह की क्रूसीफिक्सन (उनकी क्रूस पर छद्म किया जाना) के दिन को मानाता है। इसके पीछे ईसा मसीह के बलिदान और उनके महान प्रेम की कथा है।
  2. प्रार्थना और ध्यान: गुड फ्राइडे पर लोग चर्चों में जाते हैं और ईसा मसीह के बलिदान को स्मरण करते हैं। वे प्रार्थनाएं करते हैं, ध्यान करते हैं और उनके शिक्षाओं को ध्यान में रखते हैं।
  3. सेवा: गुड फ्राइडे पर लोग उदारता और सेवा का मार्ग अपनाते हैं। कुछ लोग गरीबों की मदद करते हैं, भोजन बांटते हैं, और सामाजिक कार्यों में शामिल होते हैं।
  4. धार्मिक कार्यक्रम: कुछ स्थानों पर, धार्मिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं जो ईसा मसीह की कहानी और उनके प्रेम के बारे में होते हैं।
खबर को शेयर करें ...
  • Related Posts

    लालकुआँ-वाराणसी सिटी- लालकुआँ ग्रीष्मकालीन विशेष गाड़ी 29 अप्रैल से

    रेल यात्रियों की सुविधा हेतु 05055 /05056 लालकुआँ-वाराणसी सिटी-लालकुआँ ग्रीष्मकालीन…

    खबर को शेयर करें ...

    (गज़ब) मियां-बीवी दोनों मिलकर देते थे चोरी की घटनाओं को अंजाम, फेरी के बहाने करते थे रेकी

    लालकुआं क्षेत्र में चोरी/नकबजनी की घटनाओं में शामिल पति पत्नी…

    खबर को शेयर करें ...

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    क्या ये आपने पढ़ा?

    लालकुआँ-वाराणसी सिटी- लालकुआँ ग्रीष्मकालीन विशेष गाड़ी 29 अप्रैल से

    लालकुआँ-वाराणसी सिटी- लालकुआँ ग्रीष्मकालीन विशेष गाड़ी 29 अप्रैल से

    (गज़ब) मियां-बीवी दोनों मिलकर देते थे चोरी की घटनाओं को अंजाम, फेरी के बहाने करते थे रेकी

    (गज़ब) मियां-बीवी दोनों मिलकर देते थे चोरी की घटनाओं को अंजाम, फेरी के बहाने करते थे रेकी

    ईवीएम मशीनों को रखा गया स्ट्रांग रूम में, ऐसी है चाक-चौबंद सुरक्षा

    ईवीएम मशीनों को रखा गया स्ट्रांग रूम में, ऐसी है चाक-चौबंद सुरक्षा

    लालकुआं-हावड़ा ग्रीष्मकालीन विषेष गाड़ी के समय में हुआ बदलाव

    लालकुआं-हावड़ा ग्रीष्मकालीन विषेष गाड़ी के समय में हुआ बदलाव

    जैव विविधता से भरपूर उत्तराखंड में पक्षियों का एक अलग संसार बसता है- राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि)

    जैव विविधता से भरपूर उत्तराखंड में पक्षियों का एक अलग संसार बसता है- राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि)

    जंगल में लगने वाली आग पर काबू पाने के लिए राजस्व पुलिस के साथ महिला मंगल दल, युवक मंगल दल, स्वयं सहायता समूहों एवं आपदा मित्रों का भी रहेगा सहयोग

    जंगल में लगने वाली आग पर काबू पाने के लिए राजस्व पुलिस के साथ महिला मंगल दल, युवक मंगल दल, स्वयं सहायता समूहों एवं आपदा मित्रों का भी रहेगा सहयोग